माड़िया ढोल वादक की एक ढोकरा प्रतिमा A Dhokra Statue of Madiya Dholak

( नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे )

हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मैं आपको छत्तीसगढ़ के माड़िया ढोलक वादक की एक ढोकरा प्रतिमा के बारे जानकारी देने वाला हूं। ये जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट जरूर करे।

माड़िया ढोल वादक की एक ढोकरा प्रतिमा

माड़िया ढोल वादक की एक ढोकरा प्रतिमा

माड़िया क्या है – माड़िया, छत्तीसगढ़ के दंडामी मारिया समुदाय के एक ढोल वादक की ढोकरा प्रतिमा है। इसे पारंपरिक नृत्य परिधान में एक प्लेटफार्म पर खड़े हुए दर्शाया गया है।

अद्भुत कला – डोकरा कला का यह अद्भुत प्रादर्श छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के चढ़या समुदाय में प्रचलित लॉस्ट टैक्स कास्टिंग की एक प्राचीन तकनीक से निर्मित है। मूलतः यह ढोल वादक एक रिबन से बंधा हुआ भैंस के सींगों का एक जोड़ा और बीच में खोंसे गए दुर्लभ पौधे का एक गुच्छा धारण करते हैं। इस तरह के शिरो-आभूषण के कारण इस जनजाति को बाइसन हॉर्न माड़िया के लोकप्रिय नाम से भी जाना जाता है जिसे वे आम तौर पर त्योहारों, विवाह और अन्य समारोहों के दौरान धारण करते हैं। वादक के चेहरे को छिपाती कौड़ी की कई लटकनें शिरो-आभूषण से लटकाई गई हैं। एक लम्बा ढोल उसके कंधे पर लटकाया गया है। इस कलाकृति इस अर्थ में अद्वितीय है कि इसके हिस्सों को आसानी से अलग कर इसे परिवहन और पुनरू जोड़े जाने के अनुकूल बनाया गया है। आकृति को आभूषणों और अलंकरण के अन्य रूपांकनों द्वारा भी सजाया गया है। पुरुष ढोल वादक के दोनो तरफ संगत देते दो छोटे ढोल वादक भी है।

यह पोस्ट आप को अच्छा लगे या इसके बारे में अधिक जानकारी है तो नीचे कॉमेंट करके जरूर बताए।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends my name is Hitesh Kumar In this post, I am going to give you information about a Dhokra statue of Madiya Dholak player of Chhattisgarh. If you like this information, then please comment.

A Dhokra Statue of Madiya Dholak

What is Madia – Madiya is a Dhokra statue of a drummer of Dandami Maria community of Chhattisgarh. It is depicted standing on a platform in traditional dance attire.

Wonderful Art – This wonderful exhibition of Dokra art is made from an ancient technique of Lost Tax Casting practiced in the Ascended community of Chhattisgarh and Madhya Pradesh. Originally, the drummer holds a pair of buffalo horns tied to a ribbon and a bunch of rare plants baked in the middle. This tribe is also known by the popular name of Bison Horn Madia due to such Shiro-ornament.Which they usually wear during festivals, marriages and other ceremonies. Many clams of clams that hide the player’s face are hung with shiro-ornaments. A long drum is hung on his shoulder. This artwork is unique in the sense that its parts are easily disassembled and adapted to be transported and rewired. The figure is also decorated with ornaments and other motifs of ornamentation. There are also two small drum players giving the accompaniment on both sides of the male drummer.

you like this post or know more about it, then please comment by commenting below.

Jai johar jai Chattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा और अन्य रहस्यमय जगह के बारे इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!