गिधवा परसदा,बेमेतरा Gidhwa Parsada, Bemetra

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

हैलो दोस्तों मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मैं आपको छत्तीसगढ़ के बेमेतरा जिले के गिधवा परसदा गांव के बारे जानकारी देने वाला हूं। ये जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट और शेयर जरूर करे।

गिधवा परसदा,बेमेतरा

पता – बेमेतरा जिले का एक छोटा सा गांव गिधवा परसदा जो पक्षियों के कारण देश विदेश में अपना प्रभाव स्थापित किया है कहा जाता है की इस स्थान में प्रवासी पक्षी देश विदेशी से यहां रहने आते है।

पक्षी – दोस्तो जैव विविधता और पर्यावरण संरक्षण में पक्षियों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। गिधवा में 150 प्रकार के पक्षियों का अनूठा संसार है। यहां किये गये अध्ययनों में पक्षियों की कुल 143 प्रजातियां जिसमें कुल 26 स्थानीय प्रवासी प्रजातियां, 11 विदेशी प्रवासी प्रजातियां तथा 106 स्थानीय आवासीय प्रजातियां पक्षी पाया गया है।

विदेशी से आते है पक्षी – दोस्तो गिधवा परसदा में यूरोप, मंगोलिया, बर्मा और बांग्लादेश से हर वर्ष अक्टूबर में प्रवासी पक्षी पहुंचते है।

कब से आ रहे है पक्षी – दोस्तो बेमेतरा जिले के गिधवा-परसदा स्थित दो बड़े जलाशयों में पिछले 25 साल से विदेशी पक्षी आ रहे हैं।

अघोषित अभयारण्य – दोस्तो 100 एकड़ में फैले पुराने तालाब के अलावा परसदा में भी 125 एकड़ के जलभराव वाला जलाशय है। यह क्षेत्र प्रवासी पक्षियों का अघोषित अभयारण्य माना जाता है।

पक्षियों कों क्या आकर्षित करतीं है – दोस्तो बेमेतरा जिले के गिधवा परसदा जलाशय की मछलियां, गांव की नम भूमि और जैव विविधता इन्हें आकर्षित करती है।

छत्तीसगढ़ का पहला पक्षी महोत्सव – दोस्तो छत्तीसगढ़ का पहला पक्षी महोत्सव का आयोजन 31 जनवरी से 2 फरवरी 2020 तक तीन दिनों तक किया गया था। वन विभाग दुर्ग डिविजन और बेमेतरा जिले में आने वाले इन गांव में यह आयोजन किया गया। इसकी तैयारियां वन विभाग द्वारा किया गया था।

ईको-पर्यटन – पक्षियों के संरक्षण के साथ-साथ जैव विविधता संरक्षण तथा स्थानीय लोगों को ईको-पर्यटन के माध्यम से होम, विलेज स्टे से रोजगार उपलब्ध होगा.

गिधवा परसदा बनेगा पर्यटन स्थल – दोस्तो गिधवा परसदा पक्षी विज्ञानिको, प्रकृति प्रेमियों और यहां आने वाले सैलानियों के लिये विभिन्न सुविधायें विकसित की जायेंगी जिससे आने वाले टाईम में एक टूरिस्ट प्लेस के रूप में विकसित किया जा सके।

हमने यूट्यूब में बेमेतरा के गिधवा परसदा, का विडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को सब्क्राइब जरूर करे
Youtube channel – dk808

यह पोस्ट आपको अच्छा लगे या इसके बारे में जरूरी जानकारी है तो हमे कमेंट कर जरूर बताएं।

।।जय जोहार जय छत्तीसगढ।।

Hello friends my name is Hitesh Kumar In this post I am going to give you information about Gidhwa Parsada village of Bemetara district of Chhattisgarh. If you like this information, then please comment and share it.

Gidhwa Parsada, Bemetra

Address – A small village in Bemetra district, Gidhwa Parsada, which has established its influence in the country and abroad due to birds, is said that in this place, migratory birds come here from foreign countries.

Birds – Birds play an important role in biodiversity and environmental protection. Gidhwa has a unique world of 150 types of birds. Studies conducted here have found a total of 143 species of birds, including a total of 26 local migratory species, 11 exotic migratory species and 106 local residential species of birds.

Birds come from foreign countries – Friends, migratory birds arrive in Gidhwa Parasada from Europe, Mongolia, Burma and Bangladesh every year in October.

Since when birds are coming – Friends: Foreign birds have been coming from two large reservoirs located in Gidhwa-Parsada in Bemetara district for the last 25 years.

Undeclared Sanctuary – Friends, in addition to the old pond spread over 100 acres, Parasada also has a 125-acre water reservoir. This area is considered an undeclared sanctuary of migratory birds.

What attracts birds – Friends of the Gidhwa Parsada reservoir in Bemetara district attract the fish, moist land and biodiversity of the village.

First Bird Festival of Chhattisgarh – Friends, the first bird festival of Chhattisgarh was organized for three days from 31 January to 2 February 2020. This was organized in these villages falling in the Forest Department Durg Division and Bemetara district. Its preparation was done by the Forest Department.

Eco-tourism – Along with conservation of birds, biodiversity conservation and local people will get employment from home, village stay through eco-tourism.

Gidhwa Parsada will be a tourist destination – Friends Gidhwa Parsada will be developed various facilities for ornithologists, nature lovers and tourists visiting here, so that it can be developed as a tourist place in the coming time.

We have made a video of Gidhwa Parsada of Bemetra in YouTube, watch it and subscribe to the channel

Youtube channel – dk808

If you like this post or you have the necessary information about it, then please tell us by commenting.

Jai johar jai chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा और अन्य रहस्यमय जगह के बारे इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!