छत्तीसगढ़ के 36 किलो के नाम lNames of 36 kg of Chhattisgarh

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मैं छत्तीसगढ़ के 36 किलो के बारे में जानकारी प्रदान करने वाला हूं यह जानकारी अच्छा लगे तो नीचे कमेंट और शेयर जरूर करे।

छत्तीसगढ़ के 36 किलो के नामछत्तीसगढ़ के 36 किलो के नाम

छत्तीसगढ़ नाम कैसे पड़ा – दोस्तो रामायण काल से सत्रहवीं शताब्दी तक इस इलाके को कोसल या दक्षिण कोसल के तौर पर जाना जाता था। कल्‍चुरी राजाओं ने 36 किले या कई गांवों को मिलाकर गढ़ बनाए थे। बिलासपुर के पास स्थित शहर रतनपुर, कल्चुरी राजाओं के दौर में छत्तीसगढ़ की राजधानी हुआ करता था। शिवनाथ नदी के उत्‍तर में कल्‍चुरियों की रतनपुर शाखा के अंतर्गत 18 गढ़ और दक्षिण में रायपुर शाखा के अंतर्गत 18 गढ़ बनाए थे।

रतनपुर के 18 गढ़।

1)रतनपुर (365 गांव)

2)उपरोड़ा(84 गांव)

3)मारो(354 गांव)

4)बिजयपुर (326 गांव)

5)खरौद(135 गांव)

6)कोटगढ़(84 गांव)

7)नवागढ़(84 गांव)

8)सोथी(84 गांव)

9)मल्हारगढ़(अज्ञात)

10)मुंगेली सहित पडरभट्ठा(324 गांव)

11)सेमरिया(84 गांव)

12)मदनपुर(चांपा),(153 गांव)

13)कोसगई(छुरी),(200 गांव)

14)करकट्टी(600 गांव)

15)लाफागढ़(चैतुरगढ़),(200 गांव)

16)केंदा(84 गांव)

17)मतिनगढ़(84 गांव)

18)पेंड्रा(84 गांव)

रायपुर के 18 गढ़।

1)रायपुर (640 गांव)

2)पाटन(152 गांव)

3)सिमगा(84 गांव)

4)सिंगारपुर(अज्ञात)

5)लवण(252 गांव)

6)अमेरा(84 गांव)

7)दुर्ग(84 गांव)

8)सारधा(अज्ञात)

9)सिरसा(84 गांव)

10)मोहंदी(84 गांव)

11)खल्लारी(84 गांव)

12)सिरपुर(84 गांव)

13)फिंगेश्वर(84 गांव)

14)सुवरमाल(84 गांव)

15)राजिम(84 गांव)

16)सिंघनगढ़(84 गांव)

17) टेगनागढ़(84 गांव)

18)अकलवाड़ा(84 गांव)

यह पोस्ट आपको अच्छा लगे या इसके बारे में जरूरी जानकारी है तो हमे कमेंट कर जरूर बताएं।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to provide information about 36 kg of Chhattisgarh, if you like this information, then do comment and share below.

Names of 36 kg of Chhattisgarh

How Chhattisgarh got its name – Friends, from the Ramayana period to the seventeenth century, this area was known as Kosal or Dakshin Kosal. The Kalchuri kings built bastions comprising 36 forts or several villages. Ratanpur, a city located near Bilaspur, used to be the capital of Chhattisgarh during the period of the Kalchuri kings. In the north of the Shivnath river, 18 garhs were built under the Ratanpur branch of the Kalchuris and 18 garhs under the Raipur branch in the south.

18 bastions of Ratanpur.

1) Ratanpur (365 villages)

2) Uproda (84 Villages)

3) Maro (354 villages)

4) Bijaipur (326 Villages)

5) Purchase (135 villages)

6) Kotgarh (84 villages)

7) Nawagarh (84 Villages)

8) Sothi (84 villages)

9) Malhargarh (Unknown)

10) Padarbhatta (324 villages) including Mungeli

11 ) Semaria (84 Villages)

12) Madanpur (Champa), (153 villages)

13) Kosgai knife) (200 villages)

14) Karkatti (600 Villages)

15) Lafagarh (Chaiturgarh), (200 Villages)

16) Kenda (84 Villages)

17) Matingarh (84 Villages)

18) Pendra (84 Villages)

18 Citadels of Raipur.

1) Raipur (640 villages)

2) Patan (152 villages)

3) Simga (84 villages)

4) Singarpur (Unknown)

5) Salt(252 Villages)

6) Amera (84 villages

7) Durg (84 villages)

8) Saradha (Unknown)

9) Sirsa (84 Villages)

10) Mohandi (84 Villages)

11) Khallari (84 Villages)

12) Sirpur (84 villages)

13) Fingeshwar (84 Villages)

14) Suvarmal (84 villages)

15) Rajim (84 villages)

16) Singhangarh (84 Villages)

17) Tagnagarh (84 Villages)

18) Akalwara (84 Villages)

If you like this post or have important information about it, then definitely tell us by commenting.

jai johar jai Chhattisgarh











Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!