सैगोन के 4 प्राचीन पेड़ हैं जिनका नाम राम के भाइयों के नाम से है l 4 Ancient Trees of Saigon bastar chhattisgarh

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मैं आपको छत्तीसगढ़ के 4 सबसे पुराने सैगोन के पेड़ के बारे में जानकारी देने वाला हूं।।यह जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट और शेयर जरूर करे आइए जानते है इस सैगोन पेड़ के बारे में विस्तार से।

सैगोन के 4 प्राचीन पेड़

छत्तीसगढ़ सैगोन के 4 प्राचीन पेड़ हैं जिनका नाम राम के भाइयों के नाम से है।

कहा है ये पुराने पेड़ – दोस्तो सैगोन के सबसे पुराने पेड़ छत्तीसगढ़ और उड़ीसा के सीमा से लगे बस्तर जिले के माचकोट के जंगल के परिक्षेत्र के अंतर्गत तोलावाड़ा बिट में मौजूद है।

सैगोन के पेड़ का क्या क्या नाम रखा गया है – दोस्तो प्राचीन काल में छत्तीसगढ़ को दक्षिण कौशल कहा जाता था। छत्तीसगढ़ को राम जी का ननिहाल भी कहा जाता है।वनवास के समय राम जी काफी समय बस्तर के जंगलों में व्यतीत किए है। यहां के जंगल में सैगोन के 4 पेड़ है।जो बेहद पुराने बताए जाते है।इनमे से पहले पेड़ का नाम राम है जिसकी आयु 550 वर्ष है।दूसरे पेड़ का नाम लक्ष्मण और तीसरे पेड़ का नाम भरत चौथे पेड़ का शत्रुहान रखा गया है।

एक पेड़ सुख चुका है – दोस्तो सैगोन के 4 पेड़ो में से 1 पेड़ लगभग 8 वर्ष पूर्व सुख चुका है। जिसका नाम भरत है।

सैगोन के पेड़ का क्या उम्र है – दोस्तो इस स्थान में सैगोन के 4 पेड़ है इनका उम्र लगभग 375 से 550 तक है।

पर्यटन नक्शे में शामिल है ये स्थान – दोस्तो छत्तीसगढ़ के इस प्राचीन बेहद ही खूबसूरत सैगोन के पेड़ को छत्तीसगढ़ के पर्यटन वन मंडल ने अपने पर्यटन नक्शे में शामिल कर वन कक्ष क्रमांक 1910 में संरक्षित किया गया है।

यहां जाना है खतरों से भरा – दोस्तो भले ही पर्यटन विभाग ने इस स्थान को पर्यटन नक्शे के शामिल कर लिया है लेकिन यहां जाना खतरो से भरा है इस स्थान में आम आदमी का जाना संभव नहीं है क्यों की ये स्थान घनघोर जंगलों में है जहां जंगली जानवरों के साथ साथ नक्सली से भी खतरा है क्यों की ये स्थान नक्सल प्रभावित है।

दोस्तो अगर आप को यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends my name is Hitesh Kumar in this post I am going to give you information about 4 oldest Saigon tree of Chhattisgarh.

4 Ancient Trees of Saigon

Chhattisgarh Saigon has 4 ancient trees named after the brothers of Rama.

It is said that these old trees – Friends, the oldest trees of Saigon are present in Tolawada Bit under the forest of Machkot of Bastar district bordering Chhattisgarh and Orissa.

What is the name of Saigon tree – Friends, in ancient times Chhattisgarh was called Dakshin Kaushal. Chhattisgarh is also called the maternal grandmother of Ram ji. Ram ji spent a lot of time in the forests of Bastar during his exile. There are 4 Saigon trees in the forest here. Which are said to be very old. The name of the first tree is Ram, whose age is 550 years.

A tree has dried up – Friends, out of 4 trees of Saigon, 1 tree has dried up about 8 years ago. Whose name is Bharat.

What is the age of Saigon tree – Friends, there are 4 Saigon trees in this place, their age ranges from about 375 to 550.

This place is included in the tourism map – Friends, this ancient very beautiful Saigon tree of Chhattisgarh has been preserved in the forest room number 1910 by the Tourism Forest Board of Chhattisgarh in its tourism map.

Going here is full of dangers – Friends, even though the tourism department has included this place in the tourism map, but going here is full of dangers, it is not possible for the common man to go to this place because this place is in dense forests where wild Along with animals, there is also a danger from Naxalites because this place is Naxal affected.

Friends, if you like this information, then do comment and share.

jai johar jai chhattisgrah

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!