अद्भुत मूर्ति माँ पाताल भैरवी राजनांदगांव l patal bhairvi Rajnandgaon

 

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मैं आपको राजनांदगांव जिले में स्थित मां पाताल भैरवी मंदिर के बारे में जानकारी देने वाला हूं ।ये जानकारी अच्छा लगा है तो इसे शेयर जरूर करे

 
   माँ पाताल भैरवी, राजनांदगांव
अद्भुत मूर्ति है माँ पाताल भैरवी का , राजनांदगांव(छ.ग)
माँ पाताल भैरवी
पता- दोस्तों यह दुर्ग से लगभग 33 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है माँ पाताल भैरवी का भव्य मंदिर।

शीर्ष भाग पर विराजमान –
दोस्तों माँ पाताल भैरवी के मंदिर के शीर्ष में विराजमान हैं  एक विशाल  शिवलिंग जो 105 फिट ऊँचा है।
गर्भगृह में स्थित-   दोस्तों 16 फिट नीचे वृत्ताकार गर्भगृह में विराजमान हैं माँ पाताल भैरवी की विशाल प्रतिमा।

प्रतिमा की ऊँचाई- दोस्तों माँ पाताल भैरवी की  ऊँचाई 15 फिट ऊँची और 11 टन वजनी है।

अद्भुत मूर्ति है माँ पाताल भैरवी का , राजनांदगांव(छ.ग)
चैत नवरात्रि में ज्योति कलश- दोस्तों माँ पाताल भैरवी के मंदिर में  वर्ष 2019 में  चैत नवरात्रि में 1900 ज्योति कलश जलाये थे ।    
अद्भुत मूर्ति है माँ पाताल भैरवी का , राजनांदगांव(छ.ग)
नवरात्रि पर्व पर- दोस्तों माँ पाताल भैरवी के मंदिर में नवरात्रि के समय में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ती है।
 
नंदी की प्रतिमा- दोस्तों पाताल भैरवी के शीर्ष में शिवलिंग के सामने  विशाल नंदी की प्रतिमा विद्यमान है।
अद्भुत मूर्ति है माँ पाताल भैरवी का , राजनांदगांव(छ.ग)
माँ पाताल भैरवी मंदिर तीन भाग में विभाजित- दोस्तों मां पाताल भैरवी मंदिर  तीन भाग में विभाजित प्रथम में माँ पाताल भैरवी का मंदिर, द्वितीय में माँ दुर्गा का मंदिर, तृतीय में शिवलिंग विराजमान है।

शरद पूर्णिमा के अवसर पर  माँ पाताल भैरवी के  मंदिर में शरद पूर्णिमा के दिन जड़ी -बूटी से युक्त खीर का वितरण किया जाता है। श्रद्धालुओं को खीर खाने से कई रोगों से मुक्ति मिल जाती है। 
 
हमने यूट्यूब में पाताल भैरवी मंदिर का विडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को सब्सक्राइब जरूर करे 
 
Youtube channel – Hitesh kumar hk 

नवरात्रि पर्व में मां पाताल भैरवी मंदिर का वीडियो को जरूर देखे

Youtube channel – dk 808

यह पोस्ट आपको अच्छा लगे या इसके बारे में जरूरी जानकारी है तो हमे कमेंट कर जरूर बताएं।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to give you information about Maa Patal Bhairavi Temple located in Rajnandgaon district. If you liked this information, then do share it.

Maa Patal Bhairavi, Rajnandgaon

Address- Friends, it is situated at a distance of about 33 km from the fort, the grand temple of Maa Patal Bhairavi.

Situated on the top part – Friends, in the top of the temple of Mata Patal Bhairavi, there is a huge Shivling which is 105 feet high.

Located in the sanctum – Friends, a huge statue of Mother Patal Bhairavi is sitting in the circular sanctum below 16 feet.

Height of the statue- Friends, the height of Maa Patal Bhairavi is 15 feet high and weighs 11 tons.

Jyoti Kalash in Chait Navratri- Friends, in the year 2019, 1900 Jyoti Kalash was lit in Chaitra Navratri in the temple of Mother Patal Bhairavi.

On Navratri festival- Friends, there is a huge crowd of devotees in the temple of Maa Patal Bhairavi during Navratri .

Statue of Nandi- Friends, there is a huge Nandi statue in front of Shivling in the top of Patal Bhairavi.

Maa Patal Bhairavi Temple divided into three parts- Friends, Maa Patal Bhairavi Temple, divided into three parts, the temple of Maa Patal Bhairavi in ​​the first, the temple of Mother Durga in the second, Shivling is seated in the third.

On the occasion of Sharad Purnima – Kheer containing herbs is distributed in the temple of Mother Patal Bhairavi on the day of Sharad Purnima. Devotees get freedom from many diseases by eating kheer.

We have made a video of Patal Bhairavi temple in YouTube, watch it and subscribe to the channel

youtube channel – hitesh kumar hk

youtube channel – dk 808

If you like the post or have important information about it, then definitely tell us by commenting.

jai Johar jai chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!