बाबा जी का समाधि स्थल, बाबा रुक्कड़नाथ धाम, नारधा(छ.ग) l Rukkadnath mandir Nardha

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।
 
हैलो दोस्तों मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मैं आपको बाबा रुक्कड़नाथ मंदिर के बारे में जानकारी देने वाला हूं। ये जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट और शेयर जरूर करे।     
     
  बाबा रुक्कड़नाथ धाम , नारधा
प्रवेश द्वार-  दोस्तों बाबा रुक्कड़नाथ मंदिर के प्रवेश द्वार में आपको शिव शंकर की प्रतिमा दिखाई देगा।
समाधी स्थल-   दोस्तों बाबा रुक्कड़नाथ इस मंदिर में जीवित समाधि लिये है।
गोबर से बना है हनुमान जी- दोस्तों नारधा में है हनुमान जी की जो मूर्ति है वह गोबर से बनी हुई है।
 बाबा जी का समाधि स्थल, बाबा रुक्कड़नाथ धाम, नारधा(छ.ग)
प्राचीन है पीपल का पेड़ –  दोस्तों बाबा रुक्कड़नाथ मंदिर में है प्राचीन है पीपल का पेड़ जो आज भी है।
 
प्राचीन है बावली-  दोस्तों नारधा के रुक्कड़नाथ मंदिर में है प्राचीन बावली जो आज भी है।

 बाबा जी का समाधि स्थल, बाबा रुक्कड़नाथ धाम, नारधा(छ.ग)

अखंड ज्योति कलश-  दोस्तों बाबा रुक्कड़नाथ मंदिर में अखंड ज्योति कलश है जो 16 जनवरी 2005 से जल रहा है
 
नवग्रह-  दोस्तों रुक्कड़नाथ मंदिर में शनि देव के नवग्रह की प्रतिमा दिखाई देगी।
 
दो भैरव की समाधि स्थल-  दोस्तों बाबा रुक्कड़नाथ के दो भैरव(कुत्ते) की समाधि स्थल बना हुआ है।
 
महाशिवरात्रि के पर्व पर- दोस्तों नारधा के रुक्कड़नाथ मंदिर में महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर भक्तो की भीड़ उमड़ पड़ती है।और यहाँ मेले का आयोजन भी होता है।
 
साधना स्थल-   दोस्तों बाबा रुकड़नाथ पीपल के पेड़ के नीचे साधना करते थे।

रुक्कड़नाथ मंदिर का एतिहास-  रुक्कड़नाथ बाबा जो समाधि लिए है वह स्थल यही है , मंदिर में एक सीढ़ी है जो 15 से 16 फिट नीचे गई है जमीन के नीचे  बाबा रुक्कड़नाथ उत्तर दिशा की मुख करके बैठे हैं और मंदिर को ऊपर से ढ़क दिया गया मंदिर का निर्माण किया गया। और मंदिर के गर्भ गृह के समाधि के ऊपर में ही पुरे शिव परिवार को स्थापित गया है।
बताते है की  एक बार खैरागढ़  के राजा ग्राम नारधा के मंदिर  में पधारे थे बाबा रुकड़नाथ ने  उनके खातिर दारी के लिये पकवान बनवाया  तो चेलो ने कहा की घी  की कमी है तो स्वामी जी ने  बावली के पानी को कडाही में डाला तो वह घी में परिवर्तित हो गया।
 
          बाबा रुक्कड़नाथ आपकी मनोकामना पूर्ण करे
हमने यूट्यूब में  बाबा रुक्कड़नाथ का  वीडियो बनाया है ।इसे जरूर देखे और चैनल को सब्सक्राइब जरूर कर दे ।  
 

यह पोस्ट आपको अच्छा लगे या इसके बारे में जरूरी जानकारी है तो हमे कमेंट कर जरूर बताएं।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to give you information about Baba Rukkadnath Temple. If you like this information then do comment and share.

Baba Rukkadnath Dham, Nardha

Entrance – Friends, you will see the statue of Shiva Shankar in the entrance of Baba Rukkadnath temple.

Samadhi Sthal – Friends, Baba Rukkadnath has taken a living tomb in this temple.

Hanuman ji is made of cow dung- Friends, the idol of Hanuman ji in Nardha is made of cow dung.

Peepal tree is ancient – Friends, Baba Rukkadnath temple is in ancient Peepal tree which is still there.

Ancient is the stepwell – Friends, there is an ancient stepwell in the Rukkanath temple of Nardha, which is still there.

Akhand Jyoti Kalash – Friends, there is a Akhand Jyoti Kalash in Baba Rukkadnath temple which is burning since 16 January 2005.

Navagraha – Friends, the idol of Shani Dev’s Navagraha will be seen in the Rukkadnath temple.

Samadhi Sthal of two Bhairav- Friends, the tomb of two Bhairav ​​(dogs) of Baba Rukkadnath remains.

On the festival of Mahashivratri- In Nardha’s Rukkadnath temple, on the holy festival of Mahashivratri, crowds of devotees throng. And a fair is also organized here.

Sadhana Sthal – Friends, Baba Rukadnath used to do sadhna under the Peepal tree.

History of Rukkadnath Temple – This is the place where Rukkadnath Baba took the samadhi, there is a staircase in the temple which has gone down 15 to 16 feet, Baba Rukkanath is sitting under the ground facing north and the temple is covered from above. was constructed. And the entire Shiva family has been established above the samadhi of the sanctum sanctorum of the temple It is said that once the king of Khairagarh had come to the temple of village Nardha, Baba Rukadnath made a dish for his sake, so the disciples said that there is a shortage of ghee, then Swamiji put the water of Baoli in the pan, then it converted into ghee.

May baba rukkadnath fulfill your wishes

We have made a video of ‘Baba Rukkadnath’ in YouTube. Must watch it and subscribe to the channel.

Youtube channel – hitesh Kumar hk

If you like this post or have important information about it, then definitely tell us by commenting.

Jai johar jai chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा और अन्य रहस्यमय जगह के बारे इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!