पाली का शिव मंदिर, कोरबा(छ.ग)

                       पाली का शिव मंदिर, कोरबा

पता- यह कोरबा से लगभग 50 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है पाली का प्रसिद्ध प्राचीन शिव मंदिर।

गर्भ गृह में विराजमान – मंदिर के गर्भ गृह में है तीन शिवलिंग जिसके दर्शन मात्र से ही सभी मनोकामना पूरी हो जाती है।
            

पाली का शिव मंदिर, कोरबा(छ.ग)
मंदिर का निर्माण – इस मंदिर का निर्माण 870 से 895 ई. के मध्य वाणवंशीय राजा विक्रमादित्य ने बनवाया था।इसके अष्ठकोणीय मण्डप पर ब्रम्हा, कृष्ण, सरस्वती, महिषासुर मर्दिनी एवं गजलक्षमी इत्यादि का चित्रण किया गया है।

शिवरात्रि तथा सावन पर्व पर – पाली के प्रसिद्ध शिवमंदिर में शिवरात्रि तथा सावन पर्व पर लाखो की संख्या में श्रद्धालु यहां जल चढाने आते है। तथा यहां विशाल मेले का भी आयोजन किया जाता हैं।

भव्य मंडप-  मंदिर के गर्भ गृह के बाहर एक मण्डप बनाया गया है जिसे देखने पर भव्य तथा सुंदर लगता है।

कलात्मक मुर्तियां- मंदिर के दीवारों पर कलात्मक मुर्तियां बनायी गयी है। जो काफी सुंदर तथा अद्भुत दिखाई देती है

पाली का शिव मंदिर, कोरबा(छ.ग)

नवकोनिया तालाब –  मंदिर के बाहर में 32 एकड़ का तालाब हैं इस तालाब को नवकोनिया तालाब भी कहा जाता है। और यहां का पानी बारह महीने रहता है।

आंतरिक भाग-  मंदिर के आंतरिक भाग में आपको देवी देवताओं की मूर्ति, ध्यान में योगी शिव की आराधना करते हुये दिखाई देती हैं।यहां कई  तरह की मूर्तिं दीवारो पर उकेरी दिखाई देती है।

पाली का शिव मंदिर, कोरबा(छ.ग)

प्रमुख विशेषता – मंदिर का जंघा भाग वन्धन के द्वारा पाद भाग में विभक्त हैं।जंघा पर आठ भुजाओ वाले नृत्यरत शिव, चामुण्डा, सूर्य स्त्री के गीले वरत्र खिंचना, स्त्री द्वारा मांग में सिंदूर भरना एवं दर्पण सुंदरी इत्यादि का अंकन पाली स्थित महादेव मंदिर के मुर्तियां की कुछ प्रमुख विशेषता हैं।

हमनें पाली शिव मंदिर का वीडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को सब्सक्राइब जरूर कर दे।
         YouTube channel- Hitesh Kumar hk



यह पोस्ट आपको अच्छा लगा है तो हमें कमेंट बॉक्स में नीचे कमेंट कर सकते हैं

                             !! धन्यवाद !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *