मन्नतो के नारियल की दीवार से बनी है मरही माता का दिव्य धाम, बिलासपुर, (छ. ग)

              मरही माता मंदिर भनवारटंक, बिलासपुर
पता- बिलासपुर कटनी रेल रुट पर जंगलो के बीच में बसा एक छोटा सा गांव भनवारटंक  मरही माता की महिमा की वजह से प्रसिद्ध हैं।

बलि प्रथा- माँ मरही माता के दरबार में मन्नत पूरी होने पर बकरे का बलि दिया जाता है। मन्नत को लेकर श्रद्धालु माता जी को श्रीफल, चूड़िया, चुनरी व  रक्षासूत्र बांधते है।
आश्चर्यजनक है मरही माता का मंदिर – न्नतो  के नारियल  की दीवार से बनी है मरही माता का दिव्य धाम ।
            मन्नतो  के नारियल  की दीवार से बनी है मरही माता का दिव्य धाम, बिलासपुर, (छ. ग)
अन्य मूर्ति-   माँ मरही माता के मन्दिर प्रांगण में हनुमान जी, भैरव बाबा की मूर्ति है।

 ब्रिटिश काल का है यह मंदिर – माँ मरही माता का मंदिर ब्रिटिश काल का बताया जाता है।


नवरात्रि पर्व पर –  मरही माता के मंदिर में नवरात्रि पर्व पर हजारो की संख्या में लोग माता रानी के दर्शन करने के लिए आते है।नवरात्रि में माँ मरही माता के मंदिर के सामने से गुजरने वाली ट्रेन के पहिये अपने आप रुक जाते है उस समय भक्तो की भारी भीड़ रहती  है।

संतान सुख की प्राप्ति-  माँ मरही माता के दरबार से कोई खाली हाथ नहीं जाता मरही माता के दरबार में संतान सुख की प्राप्ति होती है ।
          मन्नतो  के नारियल  की दीवार से बनी है मरही माता का दिव्य धाम, बिलासपुर, (छ. ग)
जस गीत का आयोजन – माँ मरही माता के मंदिर में चैत नवरात्रीे के समय जस गीत व जगराता का आयोजन होता है।
माता करती है रक्षा –  बिलासपुर कटनी ट्रेन से सफर करने वाले यात्रियों की मरही माता स्वयं रक्षा करती है।


माता जी का वार- माँ मरही माता के दरबार में शनिवार व रविवार को हजारो की  संख्या में श्रद्धालु यहाँ मन्नत लेकर पहुँचते है।
बाबा जी का कुटिया- माँ मरही माता के प्रांगण में बाबा जी का कुटिया है । यहाँ बारह महीने धुनि जलते रहता है और वहाँ रक्षा सूत्र बंधाते है।
मोबाईल नेटवर्क की समस्या-  माँ मरही माता का मंदिर जंगलो के बीच में बसे होने के कारण यहाँ श्रद्धालुओ को मोबाईल नेटवर्क की समस्या होती है।

           माँ मरही माता आपकी मनोकामना को पूरी करे।                          !!  जय माता दी !!

    Youtube Channal –  Hitesh kumar hk


यह पोस्ट आपको अच्छा लगा है तो हमें कमेंट बॉक्स में नीचे कमेंट कर सकते हैं।
                             ।। धन्यवाद।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *