रहस्यमय गुफा कुटुमसर की गुफा, बस्तर (छ.ग) kotumsar gufa in hindi

  ( नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे )
 
हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट मैं आपको कोटुमसर गुफा बारे जानकारी देने वाला हूं। ये जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट जरूर करे।     
 
 
कुटुम्बसर गुफा जगदलपुर, बस्तर
पता-छत्तीसगढ़ में जगदलपुर के निकट स्थित है कुटुम्बसर गुफा ।
 
 
गुफा की खोज – इस गुफा की खोज 1951 में प्रसिद्ध भूगोल वैज्ञानिक डॉ.शंकर तिवारी ने की थी। गुफा 330 मी. लंबी तथा 72 मी.गहरी है।इस गुफा में एक नाला बहता है।

अन्धी मछलियाँ- कुटुम्बसर गुफा में  सूरज की किरणे गुफा के अंदर  नही पहुँचने के कारण यहां की मछलियाँ अन्धी पाई जाती हैं।

गुफा का निर्माण-  कुटुम्बसर गुफा प्राकृतिक परिवर्तनों के कारण पानी के बहाव के कारण ही गुफा का निर्माण हुआ है।

देवी देवताओं की आकृति –  गुफाओ के अंदर में कैल्सियम से बनी विभिन्न  प्रकार की आकृति दिखाई देती हैं  गुफाओ की चट्टानों में भगवान शिव एवं नंदी की आकृति दिखाई देती है तो किसी चट्टानो में माता जी की आँखे दिखाई देती है। तो किसी में भवर के समान आकृति भी दिखाई देती है।

शिवरात्रि के पर्व पर –  कुटुम्बसर गुफा में शिवरात्रि पर्व पर आदिवासी लोग इस गुफा के आखरी छोर में चट्टानों से बने अद्भुत शिवलिंग की  पूजा अर्चना करते है। इस स्थान को शिवालय भी कहा जाता हैं।

यहां पाई जाती हैं अंधी मछलियां, कुटुमसर की गुफा, बस्तर (छ.ग)

गुफा में है खतरनाक साँप  – कुटुम्बसर की गुफा में पाई जाती है बहूत ही खतरनाक नाग साँप जो अंधेरा के कारण  व्यक्ति को बहुत कम दिखाई देती है।

रहस्यमय है  कुटुमसर की गुफा-  बस्तर के विश्व प्रसिद्ध कुटुम्बसर गुफा कई रहस्यों को अपने में समेटे हुए है । इस गुफा अभी भी लगातार अध्ययन किया जा रहा है अभी यह पता चला है की कुटुमसर की गुफा में और नयी गुफा मिल गया है ।अभी उस जगह शासन की तरफ से प्रतिबंद कर दिया गया है।

झुमरनुमा आकृति- बस्तर के कुटुम्बसर की गुफा में चुना पत्थर से बनी झुमरनुमा संरचनाये कई करोड़ वर्ष पुराना है। ये औरे  भी आकर्षक दिखाई देती है।

कैल्सियम से निर्मित स्तम्भ – कुटुम्बसर गुफा में पानी की बूंदे के साथ जो  कैल्सियम गिरता गया धीरे -धीरे वह स्तंभो का रूप ले लिया है।

यहां पाई जाती हैं अंधी मछलियां, कुटुमसर की गुफा, बस्तर (छ.ग)

कुटम्बसर गुफा कैसे जाये-  कुटुम्बसर गुफा जाने के लिये जंगलो के बीच से होते हुये आपको जीपसी में बैठे कर जाना होता है। और यह सफर रोमांचक लगता है।

हमने यूट्यूब में कुटुम्बसर गुफा का वीडियो बनाया है जिसे देखे और  चैंनल को सब्सक्राइब जरूर कर दे।
    Youtube Channal –  Hitesh kumar hk

यह पोस्ट आप को अच्छा लगे या इसके बारे में अधिक जानकारी है तो नीचे कॉमेंट करके जरूर बताए।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़़

Hello friends my name is Hitesh Kumar in this post, I am going to give you information about Kotumsar cave. If you like this information, then please comment.

Kutumbasar Cave Jagdalpur, Bastar.

Address-Kutumbasar Cave is located near Jagdalpur in Chhattisgarh.

Cave Discovery – This cave was discovered in 1951 by renowned geography scientist Dr. Shankar Tiwari. Cave 330 m. Long and 72 m deep. A rivulet flows in this cave.

Blind Fishes – Fishes here are found blind due to sun rays not reaching inside the cave in Kutumbasar Cave.

Construction of the cave – The Kutumbasar cave has been formed due to the flow of water due to natural changes.

Shapes of Gods and Goddesses – Inside the caves, various shapes made of calcium are seen, in the rocks of the caves, the shape of Lord Shiva and Nandi is seen, and in some rocks the eyes of Mother Ji are seen. So a shape similar to that of Bhavar is also seen.

On the festival of Shivaratri – On the occasion of Shivaratri in the Kutumbasar cave, the tribal people worship the amazing Shivling made of rocks at the end of this cave. This place is also called Pagoda.

Dangerous snake is in the cave – very dangerous snake is found in the cave of Kutumbasar, due to darkness, the person is seen very rarely.

Kutumsar Cave is mysterious – The world famous Kutumbasar Cave of Bastar has many mysteries in it. This cave is still being studied continuously. It has been learned that a new cave has been found in the cave of Kutumsar. Now that place has been banned by the government.

Jhumaruma Shape – Jhumarnuma structures made of stone chosen in the cave of Kutumbasar of Bastar are several crores of years old. It also looks attractive.

Calcium-made pillar – The calcium that fell slowly with drops of water in the Kutumbasar cave has taken the form of pillars.

How to go to Kutumbasar Cave- To go to Kutumbasar Cave, you have to sit in a jeepse through the middle of the jungles. And this journey seems exciting.

We have made a video of Kutumbasar Cave in YouTube which you can watch and subscribe to the channel.

Youtube channel – hitesh kumar hk

If you like this post or know more about it, then please comment by commenting below. Jai johar jai Chattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा और अन्य रहस्यमय जगह के बारे इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!