महानदी के तट पर स्थित माँ चंद्रहासिनी देवी का मंदिर l chandrahasini mandir raigarh chhattisgarh

    नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तों मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मैं आपको रायगढ़ जिले के चंद्रहासिनी मंदिर के बारे में जानकारी देने वाला हूं । ये जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट और शेयर जरूर करे।    

   चंद्रहासिनी मंदिर रायगढ़

पता- यह छत्तीसगढ़ के जांजगीर चाँपा से लगभग 120 किलोमीटर तथा रायगढ़ से लगभग 32 किलोमीटर की दुरी पर स्थित हैं माँ चंद्रहासिनी देवी का भव्य मंदिर।

महानदी के तट पर स्थित – विशाल महानदी के तट पर चन्द्रपुर नामक नगर में  स्थित हैं माँ चंद्रहासिनी देवी का भव्य मंदिर।

विशाल प्रतिमा –  चंद्रहासिनी मंदिर के बाहर में विशाल हनुमान जी और  अर्धनारीश्वर महादेव की प्रतिमा हैं जो आपको दूर से ही दिखाई देगी ।

नवरात्र पर्व पर-  मंदिर में हर वर्ष शारदीय और चैत्र नवरात्र में भक्तो की भारी भीड़ माता रानी के दर्शन के लिए उमंड पड़ती हैं।और यहाँ विशाल मेले का भी आयोजन किया जाता हैं।

माँ चंद्रहासिनी की छोटी बहन-  चंद्रहासिनी माता के मंदिर से कुछ दूर पर हैं माँ चंद्रहासिनी माता की छोटी बहन माँ नाथल दाई का मंदिर स्थित हैं जो महानदी के संगम स्थल के बीच बसा हैं।

महानदी के तट पर स्थित माँ चंद्रहासिनी देवी का मंदिर(छ. ग)

अद्भुत हैं माँ चंद्रहासिनी देवी का स्वरूप – माँ चंद्रहासिनी देवी का स्वरूप चन्द्रमा की आकृति के जैसा मुख होने के कारण माता चंद्रहासिनी देवी को चंद्रसेनी माता के नाम से भी जाना जाता हैं।

महानदी के तट पर स्थित माँ चंद्रहासिनी देवी का मंदिर(छ. ग)

माँ के चरण चिन्ह – मंदिर परिसर से कुछ दूर पर हैं माँ चंद्रहासिनी देवी के चरण चिन्ह जो आज भी उस जगह पर मौजूद हैं।

मंदिर का निर्माण- माँ चंद्रहासिनी और माँ नाथल दाई मंदिर  का निर्माण राजा चन्द्रहास ने कराया था।

ज्योति कलश तथा बकरे की बलि- नवरात्र में लोग अपनी मनोकामना पूर्ति के लिए ज्योति कलश जलाते हैं तो कई श्रद्धालु मनोकामना पुरी होने पर बकरे व मुर्गी की भी बलि दी जाती हैं।

पौराणिक व धार्मिक झांकिया- मंदिर परिसर मे आपको महाभारत काल तथा समुद्र मंथन की झांकिया भी दिखाई देती हैं। यहाँ पर द्रोंपती चीर हरण, माँ दुर्गा के नव रूप की प्रतिमा, ऋषि मुनि की भी प्रतिमा हैं जिसमे सभी धर्म के आराध्य देवी देवताओं की प्रतिमा भी स्थापित किया गया हैं।

हमने यूट्यूब में चंद्रहासिनी मंदिर का वीडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को सब्क्राइब जरूर करे

Youtube channel – dk808

यह पोस्ट आपको अच्छा लगे या इसके बारे में जरूरी जानकारी है तो हमे कमेंट कर जरूर बताएं।

।।जय जोहार जय छत्तीसगढ।।

Hello friends my name is Hitesh Kumar in this post I am going to give you information about Chandrahasini temple in Raigad district. If you like this information, then do comment and share.

Chandrahasini Temple Raigarh

Address- It is situated at a distance of about 120 kms from Janjgir Champa in Chhattisgarh and about 32 kms from Raigarh. The grand temple of Mother Chandrahasini Devi.

Situated on the banks of Mahanadi – On the banks of the huge Mahanadi, in a city called Chandrapur, is a grand temple of Mother Chandrahasini Devi.

Huge Statue – Outside the Chandrahasini temple, there is a huge statue of Hanuman ji and Ardhanarishwar Mahadev, which you will see from a distance.

On Navratri festival- Every year in Shardiya and Chaitra Navratri, huge crowds of devotees throng the temple to have darshan of Mata Rani. And huge fairs are also organized here.

Mother Chandrahasini’s younger sister-Om Chandrahasini Mata’s temple is located some distance away from Mother Chandrahasini Mata’s younger sister Maa Nathal Dai’s temple is situated which is situated between the confluence of Mahanadi.

Amazing is the form of Mother Chandrahasini Devi – Mother Chandrahasini Devi is also known as Chandraseni Mata, due to her face like the shape of the moon.

Mother’s Footprints – Some distance away from the temple premises are the footprints of Mother Chandrahasini Devi, which are still present at that place.

Construction of the temple- Maa Chandrahasini and Maa Nathal Dai temple were built by King Chandrahas.

Jyoti Kalash and Goat Sacrifice- In Navratri, people burn Jyoti Kalash for fulfillment of their wishes, while many devotees also sacrifice goats and chickens on fulfillment of their wishes.

Mythological and religious tableaux- You can also see the tableaux of Mahabharata period and ocean churning in the temple premises. Here there is also a statue of Drapati Chir Haran, a new form of Mother Durga, a sage Muni, in which the idols of the deities of all religions have also been installed.

We have made a video of Chandrahasini temple in YouTube, watch it and subscribe to the channel

Youtube channel – dk808

If you like the post or have important information about it, then definitely tell us by commenting.

Jai johar jai chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!