संतान सुख देने वाली देवी मां मावली,भाटापारा,सिंगारपुर(छ.ग) mavli mata mandir Singarpur

 ( नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे )          
 
हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट मैं आपको बलौदा बाजार के मावली मंदिर के बारे जानकारी देने वाला हूं। ये जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट जरूर करे।    
 
                    मावली माता मंदिर, सिंगारपुर

                संतान सुख देने वाली देवी मां मावली,भाटापारा,सिंगारपुर(छ.ग)

पता – छत्तीसगढ़ के बालौदाबाजार भाटापारा शहर से लगभग 12 किलोमीटर दूर ग्राम सिंगारपुर में विराजमान है मां मावली।

 

प्रवेश द्वार – मावली माता मंदिर के प्रवेश द्वार को बहुत ही सुंदर बनाया गया है।

गर्भगृह – सिंगारपुर के प्रसिद्ध मां मावली मंदिर के गर्भगृह में विराजमान हैं मां मावली।

संतान सुख देने वाली देवी मां मावली,भाटापारा,सिंगारपुर(छ.ग)

400 साल पुरानी मूर्ति – कहा जाता है कि इस मंदिर में मां की मूर्ति हैं वह 400 साल पुरानी है।

संतान सुख देने वाली देवी मां मावली,भाटापारा,सिंगारपुर(छ.ग)

संतान सुख की प्राप्ति – संतान संबधी मनोकामना को पुरी करने वाली देवी को मां मावली के नाम से जाना जाता है।मनोकामना पूर्ति के लिए यहां देश विदेश से श्रद्धालु मां मावली के दर्शन के लिए आते हैं।

संतान सुख देने वाली देवी मां मावली,भाटापारा,सिंगारपुर(छ.ग)

मनोकामना ज्योति – मावली माता मंदिर में चैत्र व कुंवार में भक्तो के द्वारा भारी संख्या में मनोकामना ज्योति जलाई जाती हैं।

संतान सुख देने वाली देवी मां मावली,भाटापारा,सिंगारपुर(छ.ग)

नवरात्रि पर्व पर –  मां मावली के मंदिर में हर साल नवरात्र में मां मावली का विशेष श्रृंगार किया जाता है जिसे देखने के लिए पूरे नौ दिन भक्तों का तांता लगा रहता है।पिछले कुछ वर्षों से समिति द्वारा नवरात्रि के अवसर पर मावली महोत्सव का आयोजन किया जाता है। जिससे भारी संख्या में लोग यहां आते हैं।

जल कुंड के संबंध में –  मां मावली के मंदिर के इस कुंड कि ऎसी मान्यता है कि इस जलकुंड के पानी में नहाने के बाद और मां मावली के दर्शन करने से रोग या दोष सहित सभी दुःख दर्द दूर हो जाते हैं।

बलि की प्रथा पर रोक – पहले इस मंदिर में प्रत्येक नवरात्रि के नवमी के दिन मां मावली के समक्ष बलि चढ़ाए जाने की प्रथा थी, लेकिन पिछले कुछ वर्षों से जैन साधुओं के अनुरोध और प्रशासन के हस्तक्षेप से बलि चढ़ाने का कार्य बंद कर दिया गया है।

आराध्य देवी – गोड़ समाज ने लोग मां मावली को आराध्य देवी मानते हैं।प्राचीन काल से ही गोड़ जाति के पुजारी ही मां की पूजा अर्चना किया करते थे, और आज भी मावली मां की पूजा अर्चना उन्हीं गोड़ पुजारियों के वंशज आज भी करते आ रहे हैं। अब यहां ज्योति कलश का महत्व बड़ गया है।

संतान सुख देने वाली देवी मां मावली,भाटापारा,सिंगारपुर(छ.ग)

सुंदर कलाकृति – मंदिर के दीवारों में कलाकृति का सुंदर नमूना  बनाया गया है। जो लोगो को काफी पसंद आ रहा है।

अन्य मूर्ति – मावली माता के मंदिर में आपको सभी देवी, देवताओं व संत की मूर्ति बनाया गया है। जिससे आप एक साथ सभी के दर्शन कर सकते हैं।

बालाजी की प्रतिमा – मां मावली के मंदिर परिसर में कुछ दूर पर तिरुपति बालाजी की प्रतिमा स्थापित की गई है यहां की आरती  मन को सुकून का अनुभव करती हैं।

संतान सुख देने वाली देवी मां मावली,भाटापारा,सिंगारपुर(छ.ग)

उद्यान –मां मावली मंदिर के कुछ दूर पर एक सुंदर उद्यान बनाया गया है जिससे आप इस उद्यान में यहां घूम सकते हैं।

लक्ष्मी नारायण का मंदिर – साहू समाज की ओर से लक्ष्मी नारायण मंदिर का निर्माण किया गया है।

कृष्ण का मंदिर – यादव समाज की ओर से कृष्ण मंदिर का निर्माण किया गया है।

हमने यूट्यूब में बलौदाबाजार के मावली मंदिर का वीडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को लाईक और सब्सक्राइब जरूर करे.                                    Youtube channel – dk808                  

यह पोस्ट आप को अच्छा लगे या इसके बारे में अधिक जानकारी है तो नीचे कॉमेंट करके जरूर बताए।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़़

Hello friends my name is Hitesh Kumar in this post, I am going to give you information about Mavli temple of Baloda Bazar. If you like this information, then please comment.

Mavli Mata Temple, Singarpur

Address – Maa Mawli is sitting in village Singarpur, about 12 kilometers from Balaudabazar Bhatapara town of Chhattisgarh.

Entrance Gate – The entrance of Mavali Mata Temple has been made very beautiful.

Garbha Griha – Maa Mavali sits in the sanctum sanctorum of the famous Maa Mavali temple of Singarpur.

400 years old idol – It is said that this temple has the idol of the mother, she is 400 years old.

Achievement of child happiness – The goddess who fulfills the desire of child is known as Maa Mavali. Devotees from all over the country come here to visit Maa Mavali for fulfillment of their wishes.

Manokamna Jyoti – A large number of Manokamna Jyotis are lit by devotees in Chaitra and Kunwar in Mavali Mata Temple.

On Navratri festival – every year in the temple of Maa Mavali, a special adornment of Maa Mavali is done in Navratri, which is visited by devotees for the whole nine days. goes. Due to which large number of people come here.

In relation to the water pool – like this tank of the temple of Maa MavaliIt is believed that after bathing in the water of this Kalkund and seeing Maa Mavali, all the sorrows and pains along with disease or defect are remoed.

Ban on the practice of sacrifice – Earlier this temple had the practice of offering sacrifices in front of Maa Mavali on the Navami day of every Navratri, but for the last few years, the sacrifices have been stopped due to the request of Jain monks and the intervention of the administration.

Aradhya Devi – People of God community consider Maa Mavali as adorable goddess. Since ancient times, only the priests of God community used to worship the mother, and even today, the worship of Mavali mother, the descendants of those same God priests continued to this day. Huh. Now the importance of Jyoti Kalash has increased here

Other idol – In the temple of Mavali Mata, you are made idols of all the Goddesses, Gods and Saints. With which you can see everyone at the same time.

Balaji’s Statue – Tirupati Balaji’s statue has been installed at some distance in the temple premises of Maa Mavali, where the Aarti makes the mind feel relaxed.

Garden – A beautiful garden has been built at some distance from the temple of Maa Mawali, from which you can roam here in this garden.

Laxmi Narayan Temple – Laxmi Narayan Temple has been constructed on behalf of Sahu Samaj.

Temple of Krishna – Krishna temple has been built on behalf of Yadav society.

We have made a video of Mavali Temple of Balodabazar in YouTube which you can watch and like and subscribe to the channel.

Youtube channel – dk808   

If you like this post or know more about it, then please comment by commenting below.

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा और अन्य रहस्यमय जगह के बारे इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!