फूलों के जरिए बात करने वाली देवी मां शीतला,सिहावागढ़ (धमतरी)shitala mata mandir sihawa

(नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे )

हेलो दोस्तों मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मैं आपको सिहावा नगरी के प्रसिद्ध शीतला माता मंदिर के बारे में जानकारी देने वाला हूं। 

  शीतला माता मंदिर (सिहावागढ़)

पता –  छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले के सिहावागढ़ में स्थित है मां शीतला का दरबार।

गर्भगृह – मंदिर के गर्भगृह में माता शीतला शीला रूप में विराजमान हैं।गर्भ गृह के सामने दो सिंह और हनुमान जी का मूर्ति है।           
                

फूलों के जरिए बात करने वाली देवी मां शीतला,सिहावागढ़ (धमतरी)
प्राचीन मंदिर – छत्तीसगढ़ की सिहावा नगरी में माँ शीतला का अत्यंत प्राचीन मंदिर स्थित है ।

स्वयं भू मूर्ति –  माता जी की जो मूर्ति है वह स्वयं भू मूर्ति है जो भूमि से प्रकट हुई है।

फूलों के जरिए बात करने वाली देवी मां शीतला,सिहावागढ़ (धमतरी)

 कुलदेवी – मां शीतला इस ग्राम की कुलदेवी का दर्जा प्राप्त है।

आकर्षक चित्रकला – मंदिर परिसर में अनेक देवी देवताओं एवं संतो का भी सुन्दर चित्रकला दिखाई देता है।

फूलों के जरिए बात करने वाली देवी मां शीतला,सिहावागढ़ (धमतरी)

मनोकामना पूर्ति के लिए – अंचल के लोगो में इस मंदिर के प्रति अपार श्रद्धा देखी जाती हैं। भक्त यहां मनोकामना पूर्ति के लिए इस मंदिर में दूर – दूर से लोग आते रहते हैं।

मनोकामना ज्योति – मां शीतला माता के मंदिर में नवरात्री के दोनों पक्ष में भक्तो के द्वारा मनोकामना ज्योति प्रच्चवलित की जाती है। नवरात्रि में स्वयं भू माता शीतला के दर्शन करने के लिए दूर – दूर से भक्त इस मंदिर में पहुंचते है।

अद्भुत है मां शीतला – मां शीतला अपने सिर से फूलों को गिरा के बताती है कि आपकी मनोकामना पूरी होगी कि नहीं।

दंत कथा के अनुसार – कहा जाता है कि सिहावागढ़ के जंगलों में एक लकड़हारा लकड़ी काटने गया था और वह लकड़ी काटते समय उसकी कुल्हाड़ी एक पत्थर से टकराने से उसकी कुल्हाड़ी
की धार टूट गया। वह आदमी वहीं टिला नुमा पत्थर में बैठकर कुल्हाड़ी धार करने लग गया। इसी बीच उस पत्थर से खून जैसा तरल द्रव निकलने लगा। वह आदमी वहां से घबरा कर अपने घर वापस आ गया। रात्रि में माता जी ने उस आदमी को स्वपन में कहा कि मैं एक पत्थर नहीं हूं बल्कि मैं आदि शक्ति मां शीतला हूं।यह कहकर माता वहां से गायब हो गई। और उस व्यक्ति का स्वपन टुट गया। प्रातः काल उस व्यक्ति ने लोगों को वह शीला दिखाकर अपने स्वपन के बारे में बताया। उस समय धीरे- धीरे लोगों की आस्था जागी। तब से मां शीतला के शीला रूप की पूजा अर्चना हो रही है।

हमने यूट्यूब में सिहावागढ़ मां शीतला का वीडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को सब्सक्राइब जरूर करे –
   Youtube channel – hitesh kumar hk

यह पोस्ट आपको अच्छा लगा है तो इस पोस्ट को अधिक – से अधिक शेयर करे। आप इस मंदिर बारे में जानते हैं तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में नीचे कमेंट कर जरूर बताएं।

  🙏 जय जोहार जय छत्तीसगढ़ 🙏

 

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post, I am going to give you information about the famous Shitala Mata temple in Sihawa city.

Sheetla Mata Temple (Sihavagarh)

Address – The court of Maa Sheetla is located in Sihawagarh in Dhamtari district of Chhattisgarh.

Garbha Griha – Mata Sheetla sits in the form of Sheela in the sanctum sanctorum of the temple. In front of the Garbha Griha is a statue of two lions and Hanuman ji.

Ancient Temple – A very ancient temple of Maa Shitla is located in Sihawa city of Chhattisgarh.

Bhoomi Murthy itself – The idol of Mother Ji is the Bhoomi idol itself which has appeared from the ground.

Kuldevi – Maa Sheetla has the status of Kuldevi of this village.

Attractive painting – Beautiful painting of many Gods and Goddesses are also seen in the temple premises.

For the fulfillment of wishes – immense reverence for this temple is seen in the people of the region. Devotees keep coming to this temple from far and wide to get their wishes fulfilled.

Manokamna Jyoti – In the temple of Mother Shitala Mata, the wishing light is lit by devotees on both sides of Navratri. In Navaratri, devotees from far and wide reach this temple to have a glimpse of Bhumi Mata Sheetla.

Maa Sheetla is amazing – Maa Sheetla drops flowers from her head and tells you whether your wish will be fulfilled or not.

According to the legend – it is said that a woodcutter went to cut wood in the jungles of Sihawagarh and his ax while cutting wood hit his ax with a stone.The edge was broken. The man sat there in muddy stone and began to sharpen his ax. Meanwhile, a liquid liquid like blood started coming out of that stone. The man panicked from there and returned to his home.At night, Mata ji told the man in his dream that I am not a stone but I am Adi Shakti Maa Sheetla, saying that Mata disappeared from there. And that person’s dream broke. In the morning, that person showed people about his dream by showing that sheela. At that time the faith of the people gradually awakened. Since then, Sheela form of mother Sheetla is being worshiped.

We have made a video of Sihawagarh Maa Sheetla in YouTube, watch it and subscribe to the channel –

Youtube channel – hitesh kumar hk

If you liked this post, then share this post as much as possible. If you know about this temple then please tell us by commenting in the comment box below.

🙏 Jai Johar Jai Chhattisgarh 🙏

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *