प्राचीन पश्चिमाभिमुखी मंदिर,सिद्धेश्वर शिव मंदिर, पलारी l shidheshwar Shiv mandir palari

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

हैलो दोस्तों मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मैं आपको पलारी के सिद्धेश्वर शिव मंदिर के बारे में जानकारी देने वाला हूं । ये जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट और शेयर जरूर करे।

   सिद्धेश्वर मंदिर, पलारी (जिला – बलौदा बाजार – भाटापारा)

पता – यह राजधानी रायपुर से बलौदा बाजार रोड पर लगभग 70 किलोमीटर दूर स्थित पलारी ग्राम में बालसमुंद तालाब के तट बंध पर यह सिद्धेश्वर शिव मंदिर स्थित है।

गर्भ गृह – मंदिर के गर्भगृह मे सिद्धेश्वर नामक शिवलिंग विराजमान है। जिनके दर्शन मात्र से भक्तो की मनोकामना पूर्ण हो जाती है।

मंदिर का निर्माण –सिद्धेश्वर मंदिर का निर्माण लगभग 7-8 वीं श ती ईस्वी में हुआ था।माना जाता है कि मंदिर का निर्माण छैमासी रात में किया गया है तथा तालाब की खुदाई भी इसी दौरान की गई थी।

पश्चिमाभिमुखी मंदिर –सिद्धेश्वर मंदिर प्राचीन पश्चिमाभिमुखी मंदिर है।

प्राचीन पश्चिमाभिमुखी मंदिर,सिद्धेश्वर शिव मंदिर, पलारी(छ.ग)

ईटो से निर्मित मंदिर – पलारी का यह मंदिर ईटो से निर्मित प्राचीन शिव मंदिर हैं ।

द्वारशाखा – इस मंदिर की द्वारशाखा पर नदी देवी गंगा एवं यमुना त्रिभंग मुद्रा में खड़ी हुई है।

द्वार के सिरदल पर – सिद्धेश्वर मंदिर के द्वार के सिरदल पर त्रिदेवो का अंकन है।

सुंदर दृश्य – मंदिर पर शिव विवाह दृश्य का सुंदर ढ़ंग से मंदिर की दीवारों पर उकेरा गया है।

प्राचीन पश्चिमाभिमुखी मंदिर,सिद्धेश्वर शिव मंदिर, पलारी(छ.ग)

मंदिर का शिखर भाग – सिद्धेश्वर मंदिर के शिखर का भाग कीर्तिमुख, गजमुख एवं व्याल की आकृतियों से अलंकृत है।

उत्तम नमूना – छत्तीसगढ़  के ईट निर्मित मंदिरों का यह उत्तम नमूना है।

पंचस्थ शैली  –  सिद्धेश्वर मंदिर का गर्भगृह पंचस्थ शैली का है ।

पुरातात्विक विभाग की देख रेख में यह मंदिर – पलारी का सिद्धेश्वर मंदिर प्राचीन स्मारक तथा पुरातात्विक दृष्टि से अधिनियम 1964 तथा 65 के अधीन राज्य द्वारा संरक्षित स्मारक घोषित किया गया हैं।

प्राचीन पश्चिमाभिमुखी मंदिर,सिद्धेश्वर शिव मंदिर, पलारी(छ.ग)

मेले का आयोजन – इस मंदिर में प्रति वर्ष माघ पूर्णिमा के दिन भव्य मेले की आयोजन किया जाता है।

नागर शैली में निर्मित मंदिर – पलारी का यह शिव मंदिर नागर शैली में निर्मित है।

मूर्तिकला के प्रमुख केंद्र –गुप्तकाल में मथुरा, सारनाथ, नालंदा, अमरावती आदि मूर्तिकला के प्रमुख केंद्र थे।

कलाशैली की दृष्टि से –पलारी का यह सिद्धेश्वर मंदिर कलाशैली की दृष्टि से 900 ई. का माना जाता  है।

बालसमुंद तालाब – सिद्धेश्वर मंदिर के पास में एक तालाब है जिसे बालसमुंद तालाब कहा जाता है । इस तालाब में हमेशा पानी रहता है। यह भी कहा जाता है कि भमनीदहा का स्रोत बालसमुंद तक आया है इसलिए इस तालाब का पानी कभी नहीं सूखता है।

मंदिर का जीर्णोद्धार- सिद्धेश्वर मंदिर को बृजलाल वर्मा(भूतपूर्व केन्द्रीय मंत्री) ने सन् 1960-61 में इस मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया। 

हमने यूट्यूब में सिद्धेश्वर शिव मंदिर का वीडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को सब्सक्राइब जरूर करे

Youtube channel – dk808

यह पोस्ट आप को अच्छा लगे या इस मंदिर बारे में अधिक जानकारी है तो नीचे कॉमेंट करके जरूर बताएं।                                                             ! जय जोहार जय छत्तीसगढ़ !

Hello friends my name is Hitesh Kumar in this post I am going to give you information about Siddheshwar Shiva temple in Palari. If you like this information then do comment and share.

Siddheshwar Temple, Palari (District – Baloda Bazar – Bhatapara)

Address – This Siddheshwar Shiva temple is situated on the banks of Balsamund pond in Palari village, located about 70 km away from capital Raipur on Baloda Bazar road.

Garbha Griha – In the sanctum sanctorum of the temple, a Shivling named Siddheshwar is situated. Whose darshan only fulfills the wishes of the devotees.

Construction of the temple – The Siddheshwar temple was built around 7-8th century AD. The temple is believed to have been constructed in the sixteenth night and the pond was also excavated during this time.

West facing temple – Siddheshwar temple is an ancient west facing temple.

Eto Temple – This temple of Palari is an ancient Shiva temple built from Eto.

Dwarshakha – The river Devi Ganga and Yamuna are standing in Tribhangalmudra on the door branch of this temple.

On the headboard of the door – There is a marking of Tridevo on the headboard of the door of the Siddheshwar temple.

Beautiful view – The Shiva wedding scene on the temple is beautifully carved on the walls of the temple.

Shikhar part of the temple – The Shikhar part of the Siddheshwar temple is decorated with figures of Kirtimukh, Gajamukh and Vyal.

Best specimen – This is the best specimen of the brick-built temples of Chhattisgarh.

Panchastha style – The sanctum sanctorum of Siddheshwar temple is of Panchastha style.

Under the supervision of the Archaeological Department, this temple – Palari’s Siddheshwar Temple has been declared as an ancient monument and a protected monument by the state under the Archaeological View Act 1964 and 65.

Organizing Fair – Every year a grand fair is organized in this temple on Magh Purnima.

Temple built in Nagara style – This Shiva temple of Palari is built in Nagara style.

Major centers of sculpture – Mathura, Sarnath, Nalanda, Amravati were the major centers of sculpture in the Gupta period.

From the point of view of art – this Siddheshwar temple of Palari is considered to be of 900 AD from the point of view of art.

Balsamund Talab – Near the Siddheshwar temple there is a pond which is called Balsamund Talab. There is always water in this pond. It is also said that the source of Bhamanidaha has come up to Balsamund, so the water of this pond never dries up.

Renovation of the temple- Brijlal Verma (former Union Minister) got the Siddheshwar temple renovated in 1960-61.

We have made a video of siddheshwar shiv temple in youtube, watch and subscribe to the channel.

Youtube channel – dk808

If you like this post or have more information about this temple, then definitely tell by commenting below.

Jai johar jai chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!