भूमि को फोड़ कर प्रगट हुई है मां मावली,मावलीभांठा तिलई, बेमेतरा(छ.ग)

         मावली माता मंदिर, मावलीभांठा तिलई, बेमेतरा

पता –  छत्‍तीसगढ़ में बेमेतरा जिले बेरला ब्लॉक के ग्राम तिलई मावलीभांठा में स्थित है मां मावली माता का सुंदर मंदिर।

प्रवेश द्वार – मंदिर के प्रवेशद्वार को सुन्दर बनाया गया है । माता मावली मंदिर के दो प्रवेश द्वार है।

भूमि फोड़ देवी – भूमि को फोड़ कर प्रगट हुई है मां मावली।

गर्भगृह – मंदिर के गर्भगृह में मां मावली विराजमान है।माता जी मनोकामना को पूरी करती है।

भूमि को फोड़ कर प्रगट हुई है मां मावली,मावलीभांठा तिलई, बेमेतरा(छ.ग)

मनोकामना ज्योति – मावली माता मंदिर में चैत्र व कुंवार में भक्तो के द्वारा मनोकामना ज्योति जलाई जाती हैं।

भूमि को फोड़ कर प्रगट हुई है मां मावली,मावलीभांठा तिलई, बेमेतरा(छ.ग)

नवरात्रि पर्व पर – मावली माता मंदिर में भक्तो की भारी भीड़ माता मावली के दर्शन के लिए उमड़ पड़ती है।

भूमि को फोड़ कर प्रगट हुई है मां मावली,मावलीभांठा तिलई, बेमेतरा(छ.ग)

भूमि फोड़ शिवलिंग – मां मावली माता मंदिर से कुछ दूरी पर आपको दो भूमि फोड़ शिव मंदिर दिखाई देेेते हैं  मंदिर के गर्भगृह में  शिवलिंग विराजमान। कहा जाता है कि यह शिवलिंग दो भागों में विभक्त हो चुका था। लेकिन अब यह शिवलिंग धीरे- धीरे जुड़ता ही जा रहा है। इस शिवलिंग की ऊंचाई भी बड़ती ही जा रही है। यह दोनों मंदिर एक ही सीध में दिखाई देती है।और यह शिवलिंग अद्भुत है।इस शिवलिंग को मामा और भांजा शिवलिंग के नाम से भी जाना जाता है।

भूमि को फोड़ कर प्रगट हुई है मां मावली,मावलीभांठा तिलई, बेमेतरा(छ.ग)

अन्य मूर्ति – मां मावली मंदिर प्रांगण में आपको हनुमान, कर्मा माता, श्री कृष्ण, शनि देव, बूढ़ी दाई, सिद्धि दाई आदि के मूर्ति बनाएं गये है।

इस मंदिर में हुई थी चोरी- बताया जाता है कि मां मावली मंदिर में
देवी के चांदी के छत्र और माता जी के जेवर आभूषण भी गायब हुए थे तथा दानपेटी भी गायब थी। इनकी कीमत करीब डेढ़ लाख
बताई गई है।

मंदिर का इतिहास – कहा जाता है कि आज से 400 वर्ष पूर्व इस स्थान पर जंगल हुआ करता था। यादव लोग रात को यहां मवेशी चराने आते थे।और रात पर यही पर सो जाते थे।और एक से दो तीन दिन तक मां ने स्वपन दिया । तभी लोगो ने आस पास के कचरे को हटा कर देखा तो मां शक्ति प्रगट को चुकी थी। तब से ही यादव परिवार के लोग ही माता जी की सेवा करते हैं। कुछ दिन के बाद इस जमीन को मालगुजार ने ले लिया ।मालगुजार ने 45 एकड़ जमीन राजभोग के लिए माता जी को अर्पित किए।और माता जी का मंदिर का निर्माण का कार्य शुरू हुआ। माता मावली कि लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है।

भूमि को फोड़ कर प्रगट हुई है मां मावली,मावलीभांठा तिलई, बेमेतरा(छ.ग)

               
             मां मावली  आपकी मनोकामना को पूर्ण करे
                       🙏  !!  जय माता दी !! 🙏

               

हमने यूट्यूब मां मावली मन्दिर का वीडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को जरूर सब्सक्राइब करे
           Youtube channel – hitesh kumar hk

मावली माता मंदिर से कुछ दूरी पर है अद्भुत भूमि फोड़ शिवलिंग का रहस्य विडियो जरूर देखे-

यह पोस्ट आपको अच्छा लगा है और इस मंदिर के बारे में जानते है तो हमें कमेंट बॉक्स में नीचे कमेंट कर सकते हैं।
                             !!  धन्यवाद !!

    

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!