स्वामी विवेकानंद सरोवर, बुढ़ापारा, रायपुर l swami vivekanand sarovar raipur

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तों मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मैं आपको छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के स्वामी विवेकानंद सरोवर के बारे जानकारी देने वाला हूं। ये जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट और शेयर जरूर करे।

   स्वामी विवेकानंद सरोवर, बुढ़ापारा (रायपुर)
पता – यह दोस्तो छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के बूढ़ा तालाब में स्थित स्वामी विवेकानंद की ऊंची प्रतिमा बनी है।
 
37 फिट ऊंची प्रतिमा – बूढ़ा तालाब के बीचों बीच स्वामी विवेकानंद की 37 फिट ऊंची प्रतिमा ध्यान मुद्रा में विराजमान हैं।
सुंदर प्रतिमा – यह बूढ़ा तालाब के बीचों बीच ध्यान मुद्रा में विराजमान स्वामी विवेकानंद की सुंदर प्रतिमा है।
 
बूढ़ा तालाब का निर्माण – 600 वर्ष पहले कल्चुरी वंश के राजा रायसेन के द्वारा इस तालाब का निर्माण करवाया गया था ।इस तालाब का नाम अपने ईष्ट देव बूढ़ा देव के नाम पर रखा गया था ।
 
प्रतिमा का अनावरण – श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के करकमलों द्वारा इस प्रतिमा का अनावरण हुआ था।
 
तालाब का नाम – इस तालाब को बूढ़ा तालाब के नाम से जाना जाता था लेकिन अब यह तालाब को स्वामी विवेकानंद सरोवर के नाम से जाना जाता है। 
 
लिम्काबुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड –  तालाब के बीच में स्वामी  विवेकानंद जी की ये प्रतिमा, लिम्काबुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है।
 
पर्यटन स्थल  – यह एक सुंदर पर्यटन स्थल है जो सैलानियों को यह प्रतिमा अपनी ओर आने के लिए आकर्षित करती हैं।
 
सुंदर उद्यान – बूढ़ा तालाब के किनारे सुंदर हरे भरे पेड़ लगाएं गए हैं।उद्यान में ही बूढ़ा देव को भी स्थापित किया गया है।इस तालाब के आस पास अनेक मंदिर बने हुए हैं लेकिन जिसमे बूढ़ा देव का मंदिर प्रमुख है।
 
रात को जगमगा उठता है यह उद्यान –रात को यह उद्यान और भी लाईटिंग और डेकोरेशन से यह स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा और भी चमक उठती हैं।
 
बोटिंग की सुविधा – बूढ़ा तालाब में  दूर दूर से आने वाले पर्यटक यहां बोटिंग सुविधा का आनंद भी लेते हैं। 
 
दो वर्ष इस शहर में – बचपन में स्वामी विवेकानंद दो वर्ष के लिए इस रायपुर शहर में आए थे। इस बूढ़ा तालाब में स्वामी विवेकानंद तालाब के किनारे ध्यान किया करते थे।
 
अंग्रेज़ के शासन काल में – अंग्रेज़ के शासन काल में यह बूढ़ा तालाब अंग्रेजो के आराम करने का एक सुंदर जगह हुआ करता था।
 
हमने यूट्यूब में स्वामी विवेकानंद सरोवर का वीडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को सब्सक्राइब जरूर करे
 
       Youtube channel – hitesh kumar hk 
यह पोस्ट आपको अच्छा लगे या इसके बारे में जरूरी जानकारी है तो हमे कमेंट कर जरूर बताएं।
!! जय जोहार जय छत्तीसगढ !!

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to give you information about Swami Vivekananda Sarovar of Raipur, the capital of Chhattisgarh. If you like this information then do comment and share.

Swami Vivekananda Sarovar, Budhapara (Raipur)

Address – These friends have built a tall statue of Swami Vivekananda located in the old pond of Raipur, the capital of Chhattisgarh.

37 feet high statue – 37 feet high statue of Swami Vivekananda is seated in meditation posture in the middle of old pond.

Beautiful statue – This is a beautiful statue of Swami Vivekananda sitting in meditation posture in the middle of old pond.

Construction of Budha Talab – This pond was built 600 years ago by Raja Raisen of Kalchuri dynasty. This pond was named after his Ishta Dev, Budha Dev.

Unveiling of the statue – This statue was unveiled by the lotus feet of Shri Atal Bihari Vajpayee.

Name of the pond – This pond was known as Budha Talab but now this pond is known as Swami Vivekananda Sarovar.

Limca Book of World Records – This statue of Swami Vivekananda ji in the middle of the pond is recorded in the Limca Book of World Records.

Tourist Place – It is a beautiful tourist spot which attracts tourists to come towards this statue.

Beautiful garden – Beautiful green trees have been planted on the banks of the old pond. Budha Dev has also been established in the garden itself. Many temples are built around this pond, but in which the temple of Budha Dev is prominent.

This garden lit up at night – this garden at night and with more lighting and decoration, this statue of Swami Vivekananda shines even more.

Boating facility – In the old pond, tourists coming from far and wide also enjoy the boating facility here.

Two years in this city – In childhood, Swami Vivekananda came to this city of Raipur for two years. In this old pond, Swami Vivekananda used to meditate on the banks of the pond.

During the British rule – During the British rule, this old pond used to be a beautiful place for the British to rest.

We have made a video of Swami Vivekananda Sarovar in YouTube, which must be seen and subscribed to the channel.

youtube channel – hitesh kumar hk

If you like this post or have important information about it, then definitely tell us by commenting.

Jai johar jai chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा और अन्य रहस्यमय जगह के बारे इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!