चितावरी मंदिर, धोबनी, बलौदा बाजार-भाटापारा l Chitavari Devi Temple Balodabazar

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

हैलो दोस्तों मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मैं आपको छत्तीसगढ़ के बलौदा बाजार जिला के चितावरी देवी के मंदिर के बारे में जानकारी देने वाले हूं। जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट और शेयर जरूर करे।

चितावरी मंदिर, धोबनी (जिला बलौदा बाजार-भाटापारा)

पता – दोस्तों चितावरी देवी का जो मंदिर है वह छत्तीसगढ़ के रायपुर बिलासपुर मार्ग में दामाखेडा ग्राम से बाये की तरफ अन्दर की ओर जाने पर 2 किलो मीटर की दूरी पर धोबनी नामक ग्राम स्थित है.

मंदिर का गर्भगृह – दोस्तों मन्दिर का गर्भगृह वर्गाकार है गर्भगृह में शिवलिंग स्थापित है. और शिवलिंग के दरार के जगह पर सिन्दूर लगा दिया गया है और शिवलिंग में चाँदी की आँख लगा दी जिससे इस शिवलिंग को चितावरी देवी के रूप में पूजा जाता है।

प्रस्तर से निर्मित मंदिर – दोस्तों यह जो मंदिर है यह ईट एवं प्रस्तर से निर्मित प्राचीन मंदिर है।

अन्य मंदिर – दोस्तो चितावरी देवी मंदिर के आस पास हनुमान मंदिर, शनि देव का मंदिर और शिव मंदिर है।

सुन्दर नमूना –दोस्तो यह जो शिव मंदिर है वह छत्तीसगढ़ के ईटनिर्मित ताराकृति वाले मंदिरों का सुन्दर नमूना है।

मंदिर निर्माण – दोस्तो चितावरी देवी के मंदिर का निर्माण 8-9वीं शती ईस्वी में निर्मित माना जाता है।

पश्चिमाभिमुख मंदिर – दोस्तो यह जो मंदिर है वह पश्चिमाभिमुख है जो भगवान शिव को समर्पित है।

शिखर का भाग – दोस्तो इस मंदिर के शिखर का भाग ईंटो से निर्मित है और शिखर में आमलक एवं कलश नहीं है।

बलुआ पत्थरो से बना है यह मंदिर – दोस्तो गर्भगृह का नीचे का हिस्सा लाल बलुआ पत्थरो से बना है. ऊपर का पुरा हिस्सा लाल पकी ईंटो से बना हैl

तारे की आकृति में निर्मित मंदिर – दोस्तो यह जो मंदिर है वह तारे की आकृति में निर्मित है. मन्दिर के बाहरी दिवारो पर चैत्य गवाक्ष, व्याल अंकन किया गया है। मन्दिर के बांयी तरफ बाहरी दिवार में दरवाजे की आकृति निर्मित है।

यह पोस्ट आपको अच्छा लगे या इसके बारे में जरूरी जानकारी है तो हमे कमेंट कर जरूर बताएं।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to give you information about the temple of Chitavari Devi in ​​Baloda Bazar district of Chhattisgarh. If you like the information then do comment and share.

Chitavari Temple, Dhobni (Dist. Baloda Bazar-Bhatapara)

Address – Friends, the temple of Chitavari Devi is located on the Raipur Bilaspur road of Chhattisgarh, at a distance of 2 km from Damakheda village on the left side, a village named Dhobni is located.

The sanctum of the temple – Friends, the sanctum sanctorum of the temple is square, Shivling is installed in the sanctum. And vermilion has been applied at the place of the crack of Shivling and silver eye has been put in the Shivling, due to which this Shivling is worshiped as Chitavari Devi.

Temple made of stone – Friends, this temple is an ancient temple made of brick and stone.

Other Temples – Friends Hanuman temple, Shani Dev’s temple and Shiva temple are around Chitavari Devi temple.

Beautiful specimen – Friends, this Shiva temple is a beautiful specimen of the brick-built star shaped temples of Chhattisgarh.

Temple Construction – Friends, the construction of the temple of Chitavari Devi is believed to be built in 8-9th century AD.

West facing temple – Friends, this temple which is facing west is dedicated to Lord Shiva.

Shikhar part – Friends, the part of the summit of this temple is made of bricks and there is no amalaka and kalash in the summit.

This temple is made of sandstone – Friends, the lower part of the sanctum is made of red sandstone. The entire upper part is made of red baked bricks.

Temple built in the shape of a star – Friends, this temple is built in the shape of a star. On the outer walls of the temple, Chaitya Gavaaksha, Vyala markings have been done. The shape of a door is built in the outer wall of the temple on the left side.

If you like this post or have important information about it, then definitely tell us by commenting.

Jai johar jai chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!