शिल्प ग्राम थानौद,दुर्ग(छत्तीसगढ़) lShilp Village Thanaud, Durg Chhattisgarh

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मै आपको छत्तीसगढ़ के एक गांव के बारे में जानकारी देने वाला हूं जो की छत्तीसगढ़ में ही नही छत्तीसगढ़ के बाहर भी शिल्प ग्राम के नाम से अपना पहचान बनाया है।

शिल्प ग्राम थानौद,दुर्ग(छत्तीसगढ़)

शिल्प ग्राम थानोद – दोस्तो 2000 आबादी वाले इस गांव ने अपनी शिल्प कला के दम पर छत्तीसगढ़ के बाहर भी अपना पहचान बना लिया है यहां की मूर्ति छत्तीसगढ़ के अलावा बहुत सारे राज्यों में पहुंचता है।यहां के मूर्तिकार अपनी कला से मिट्टी के सुंदर सुंदर गणेश जी और दुर्गा जी के मूर्ति बनाते है।इसके अलावा अनेक तरह की मूर्ति लोगो के मांग के हिसाब से भी बनाते है।

100 साल पहले से चल रहा है यहां मूर्ति निर्माण – दोस्तो शिल्प ग्राम थानोद आज की देन नही है यहां निवास करने वाले चक्रधारी परिवार की पूर्वजों की मेहनत है की थनोद आज इस मुकाम में पहुंचा है जहां के नाम से मूर्ति बिकता है और लोग यहां के मूर्ति को पसंद करते है।

चक्रधारी परिवार की चौथी पीढ़ी संभाल रहे है पूर्वजों की हुनर को – दोस्तो कई बार ये देखने को मिलता है की पूर्वजों के दिए सिख को लोग भूल जाते है। लेकिन चक्रधारी परिवार ने पूर्वजों की हुनर को संभालकर रखा है और उसे आगे बढ़ा रहे है।और चौथी पीढ़ी भी उनके हुनर को सिख कर काम कर रहे है।

साल भर बनता है मूर्ति – दोस्तो थानोद में सिर्फ मिट्टी के ही मूर्ति नहीं बनते इसके अलावा पत्थरो को तरास के भी मूर्ति बनाए जाता है इसका एक उदाहरण राजनादगांव की विशालकाय प्रतिमा मां पाताल भैरवी जिनका निर्माण थनोद के ही मूर्तिकार बालम चक्रधारी जी ने किया है।दोस्तो थानोद में सालभर मूर्ति बनाने का काम चलता है क्यू की यहां सैकड़ों में नही हजारों में मूर्ति बनते है।

थानोद के कुछ मशहूर मूर्तिकार – दोस्तो आज आप को उन मूर्तिकार के नाम बताने वाले है। जो अपने पूर्वजों की सिख को आगे बड़ा रहे है और इनके नाम से मूर्ति का पहचान होता है।थानोद में एक ही परिवार के मूर्तिकार अपने गांव का शान बढ़ाए हुए है जिनमे है। बालम चक्रधारी,प्रेम लाल चक्रधारी,राधेश्याम चक्रधारी,मिलन चक्रधारी,जालम चक्रधारी ऐसे और मूर्तिकार है जिनका मूर्ति लोगो द्वारा पसंद किए जाते है।

गांव के मिट्टी से बनाते है सुंदर मूर्ति – दोस्तो थानोद के चक्रधारी परिवार मूर्ति बनाने के लिए गांव के मिट्टी को विधि विधान से पूजा पाठ करके उपयोग करते है। इस मिट्टी में और में चीजे मिलते है जिससे उसमें मूर्ति बनाने लायक क्वॉलिटी आ जाता है।

थानोद की मूर्ति – दोस्तो थनोद की मूर्तियों का बात ही अलग है। यहां के मूर्तिकार फोटो देखकर हुबहू उसका कॉपी बना देते है।मूर्तियों के क्वॉलिटी के साथ ये कभी समझैता नही करते इसलिए छत्तीसगढ़ के बाहर से भी लोग मूर्ति लेने पहुंचते है। थानौद में छोटे से लेकर बड़े विशाल काय मूर्ति बनाए जाते है।

कहा कहा जाता है थानोद का मूर्ति – दोस्तो थनोद की ख्याति के चलते छत्तीसगढ़ के साथ साथ दूसरे राज्यों जैसे मध्यप्रदेश, ओडिशा, झारखंड, पश्चिम बंगाल ही नहीं बल्कि मायानगरी मुंबई तक भी पहुंचती है।

हमने यूट्यूब में थनोद का वीडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को सब्सक्राइब जरूर करे

youtube channel – Hitesh kumar hk

दोस्तो अगर आप को यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।अगर आप और कुछ जानकारी एड कराना चाहते है तो नीचे कमेंट करे।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to give you information about a village in Chhattisgarh, which has made its identity not only in Chhattisgarh but also outside Chhattisgarh as Shilp Gram.

Shilp Village Thanaud, Durg (Chhattisgarh)

Shilp Village Thanod – Friends, this village with a population of 2000 has made its identity outside Chhattisgarh on the basis of its craftsmanship, the idol here reaches many states apart from Chhattisgarh. They make idols of Ji and Durga. Apart from this, many types of idols are also made according to the demand of the people.

Idol construction is going on here since 100 years ago – Friends, Shilp Village Thanod is not a gift of today, it is the hard work of the ancestors of the Chakradhari family residing here that Thanod has reached this point today where the idol is sold in the name and people live here. I like the idol.

The fourth generation of the Chakradhari family is handling the skills of the ancestors – Friends, it is often seen that people forget the Sikhs given by the ancestors. But the Chakradhari family has taken care of the skills of the ancestors and is taking them forward. And the fourth generation is also working by learning their skills.

Idols are made throughout the year – Friends, not only idols are made of clay in Thanod, apart from this, idols are also made of stones, an example of this is the giant statue of Rajnadgaon Maa Patal Bhairavi, which has been built by Thanod’s sculptor Balam Chakradhari ji. Friends, the work of making idols goes on throughout the year in Thanod, because here idols are made in thousands, not in hundreds.

Some famous sculptors of Thanod – Friends, today we are going to tell you the names of those sculptors. Those who are carrying forward the Sikhs of their ancestors and the idol is identified by their name. In Thanod, the sculptors of the same family are raising the pride of their village, in which they are. Balam Chakradhari, Prem Lal Chakradhari, Radheshyam Chakradhari, Milan Chakradhari, Jalam Chakradhari are such other sculptors whose idols are liked by the people.

Beautiful idols are made from the soil of the village – Friends, the Chakradhari family of Thanod use the village clay to make the idol by worshiping them by law. Other things are found in this soil, due to which the quality of making idols comes in it.

Thanod’s idol – Friends, the matter of Thanod’s idols is different. The sculptors here make their exact copy after seeing the photo. They never compromise with the quality of the idols, so people from outside Chhattisgarh also come to collect the idol. From small to big idols are made in Thanaud.

It is said that the idol of Thanod – Friends, due to the fame of Thanod, it reaches not only Chhattisgarh as well as other states like Madhya Pradesh, Odisha, Jharkhand, West Bengal but also to Mayanagari Mumbai.

Have made a video of thanod in youtube, watch it and subscribe to the channel.

youtube channel – Hitesh kumar hk

Friends, if you like this information, then do comment and share. If you want to add some more information, then comment below.

jai johar jai Chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

6 thoughts on “शिल्प ग्राम थानौद,दुर्ग(छत्तीसगढ़) lShilp Village Thanaud, Durg Chhattisgarh

  • September 2, 2021 at 2:31 pm
    Permalink

    Hello! Someone in my Facebook group shared this site with us so I came to check it out. I’m definitely loving the information. I’m bookmarking and will be tweeting this to my followers! Fantastic blog and superb design.

    Reply
    • September 2, 2021 at 8:52 pm
      Permalink

      Thank you ! Through this website, information related to Chhattisgarh reaches the people so that people can know the specialty of Chhattisgarh.

      Reply
  • September 17, 2021 at 5:55 am
    Permalink

    At this time it sounds like WordPress is the preferred blogging platform out there
    right now. (from what I’ve read) Is that what you’re using on your blog?

    Reply
  • September 18, 2021 at 4:19 pm
    Permalink

    As I website possessor I conceive the content material here is very wonderful, thanks for your efforts.

    Stop by my webpage … Chong

    Reply
  • September 18, 2021 at 4:37 pm
    Permalink

    We are a group of volunteers and starting a brand new scheme in our community.

    Your website offered us with helpful information to work on. You’ve performed a formidable activity and our whole group will likely be thankful to you.

    my webpage :: balanced low-carb diet

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!