नंदनी माइंस(अहिवारा) दुर्ग जिले में बनेगा सबसे बड़ा मानव निर्मित जंगल।Nandani Mines Ahiwara Durg

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

नंदनी माइंस(अहिवारा) दुर्ग

स्थान – दोस्तो नंदनी माइंस (अहिवारा)भिलाई से लगभग 20 से 25 की मी की दूरी में है।

नंदनी माइंस(अहिवारा) – दोस्तो भिलाई स्टील प्लांट(BSP) नंदनी माइंस के एरिया में लाइस स्टोन का खनन करता है।

2500 एकड़ जमीन में बनेगा मानव निर्मित जंगल – दोस्तो नंदिनी माइंस के खाली पड़े 2500 एकड़ में होगा प्लांटेशन, वन्य जीवों को बसाया जाएगा 12 किलोमीटर के सर्कल में बनने वाले इस जंगल के बीचों-बीच एक झील होगी।

वन्य प्राणी – दोस्तो नंदनी माइंस के 2500 एकड़ खाली पड़े भूमि में जंगल बनने के बाद इसमें वन्य प्राणीयो को बसाया जायेगा जिसमे लोमड़ी, खरगोश, अजगर सहित अन्य एनीमल्स यहाँ रखे जाएंगे।

कोन कोन से पेड़ लगाए जाएंगे – दोस्तो नंदनी माइंस के इस खाली पड़े भूमि में 10 हजार से ज्यादा साल, स्वागौन औषधियुक्त शतावर, अश्वगंधा,बरगद, पीपल, सरगद महुआ, हरी, महेश जैसे पौधे रोपे जाएंगे। पूरे क्षेत्र को आकर्षक जंगल का रूप दिया जाएगा। देश में इस तरह का एक मात्र जंगल फिलहाल असम में है जो 1300 एकड़ क्षेत्रफल में फैला हुआ है।नेचुरल लाइव लेबोटरी नाम से इसे विकसित किया जा रहा। शुरुआत में करीब 3 करोड़ रुपए खर्च कर इसे तैयार किया जा रहा।
7 हजार पेड़ लगा रहा यहां वन विभाग बीएसपी ने नंदिनी माइंस के इस एरिया के 500 एकड़ में उत्खनन किया गया है। सर्वे के मुताबिक यह 400 एकड़ क्षेत्र में पेड़ लगे हुए जो फुल साइन में है। जिसमें सागौन और आंवला प्रजाति के पेड़ सर्वाधिक है। अब यहां जंगल बनाने के लिए बचे हुए खाली एरिया में वनविभाग द्वारा हजार नए पेड़ लगाए जा रहे हैं।

दोस्तो अगर आप को यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़.

Nandani Mines (Ahiwara) Durg

Location – Friends Nandani Mines (Ahiwara) is about 20 to 25 km away from Bhilai.

Nandani Mines (Ahiwara) – Friends Bhilai Steel Plant (BSP) mines lime stone in the area of ​​Nandani Mines.

Man-made forest will be built in 2500 acres of land – Friends, there will be a plantation in 2500 acres of Nandini mines, wildlife will be settled, there will be a lake in the middle of this forest to be built in a circle of 12 km.

Wildlife – Friends, after the formation of a forest in 2500 acres of vacant land of Nandani Mines, wild animals will be settled in it, in which fox, rabbit, python and other animals will be kept here.

Trees will be planted from which corner – Friends, more than 10 thousand years, trees like Asparagus, Ashwagandha, Banyan, Peepal, Sargad Mahua, Hari, Mahesh will be planted in this vacant land of Nandni Mines. The entire area will be turned into an attractive forest. The only forest of this kind in the country is presently in Assam, which is spread over an area of ​​1300 acres. It is being developed under the name Natural Live Laboratory. Initially it is being prepared by spending about Rs 3 crore.

Here the Forest Department BSP has been planting 7 thousand trees, excavation has been done in 500 acres of this area of ​​Nandini Mines. According to the survey, this 400 acres area is covered with trees which is in full sign. In which teak and amla species have the highest number of trees. Now, to make a forest here, thousand new trees are being planted by the forest department in the remaining vacant area.

Friends, if you like this information, then do comment and share.

jai johar jai Chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!