छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध मंदिर के लिए सख्त गाईड लाईन l Ratanpur, Dogargarh amidst strict guide lines chhattisgarh

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मै आपको छत्तीसगढ़ के मंदिरों के नए गाइडलाइन के बारे में जानकारी देने वाला हूं यह जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट और शेयर जरूर करे ।

सख्त गाईड लाईन के बीच रतनपुर, डोगरगढ़ में होगे माता के दर्शन

दोस्तों 7 अक्टूबर से शारदीय नवरात्रि प्रारंभ होने वाली है जिसमे मंदिरों के लिए एक गाइडलाइन बनाया गया है

दोस्तों कोरोनाकाल में इस वर्ष 7 अक्टूबर को शारदीय नवरात्रि में माता के मंदिरों के पट कहीं भक्तों के लिए खुलेंगे तो कहीं बंद रहेंगे। 7 अक्टूबर को बम्लेश्वरी मंदिर में सख्त गाइडलाइन का पालन करते हुए भक्त जगत जननी के दर्शन कर सकेंगे। तो बस्तर के मां दंतेश्वरी में मंदिर के पट बंद रहेंगे। बता दें कि कोरोना की पहली लहर के बाद से ही श्रद्धालुओं के लिए मंदिर के पट बंद थे।

मां दंतेश्वरी मंदिर दंतेवाड़ा

दोस्तों इस साल भी मां दंतेश्वरी मंदिर के पट भक्तों के लिए बंद रहेंगे। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए दंतेवाड़ा जिला प्रशासन और मंदिर समिति ने यह निर्णय लिया है। दो साल में यह चौथा नवरात्रि होगी कि आराध्य देवी के दर्शन करने भक्त मंदिर नहीं जा पाएंगे। इससे पहले दो चैत्र और एक शारदीय नवरात्र में भी मंदिर के पट बंद थे। मंदिर समिति ने बताया कि इस साल 4100 ज्योत ही प्रज्जवलित होंगी। जबकि हर साल इनकी संख्या 12 हजार से ज्यादा होती हैं।

चंडी देवी,खल्लारी मातेश्वरी मंदिर

दोस्तों महासमुंद जिला के घुंचापाली में स्थित चंडी देवी और खल्लारी मातेश्वरी मंदिर के लिए नवरात्रि में दर्शन के लिए जिला प्रशासन ने अभी कोई गाइडलाइन जारी नहीं की है। कलेक्टर डोमन सिंह ने बताया कि एक-दो दिन में गाइडलाइन जारी हो जाएगी। मां चंडी मंदिर समिति घुंचापाली के अध्यक्ष नंदकिशोर चंद्राकर ने बताया कि शासन से कोई निर्देश नहीं मिले हैं। कोई गाइडलाइन जारी किया जाता है, तो पालन किया जाएगा। वहीं खल्लारी मातेश्वरी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष विनोद कुमार त्रिवेदी ने कहा कि इस बार नवरात्र पर्व को भव्य रूप से मनाने की तैयारी चल रही है। प्रशासन से जो भी आदेश जारी होगा उसका उसका पालन किया जाएगा।

मां बम्लेश्वरी देवी, डोंगरगढ़

दोस्तो डोंगरगढ़ में स्थितमां बम्लेश्वरी देवी के दर्शन के लिए पिछली तीन नवरात्रि से आम श्रद्धालुओ के लिए बंद डोंगरगढ़ की मां बम्लेश्वरी के मंदिर के पट इस बार कुछ बंदिशों के साथ खुलेंगे। श्रद्धाधुओं को दर्शन से पहले ऐप में रजिस्ट्रेशन कराना होगा। साथ ही 72 घंटे पहले की आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट और वैक्सीन के दोनों डोज का सर्टिफिकेट जरूरी होगा। इसके लिए ऐप तैयार कर लिया गया है। इस साल नवरात्र गुरुवार 7 अक्टूबर से शुरू हो रहा है।

मां महामाया मंदिर, रतनपुर

दोस्तो रतनपुर में स्थित सिद्धपीठ मां महामाया मंदिर नवरात्रि में सुबह 7:00 बजे से रात्रि 10: 00 बजे तक आम दर्शनार्थियों के लिए खुला रहेगा। प्रसाद और चढ़ावा मंदिर के चढ़ावा मंदिर के बाहर ही चढ़ेगा दर्शनार्थी कोविड गाइडलाइन का पूरी तरह पालन करेंगे। मास्क पहनना, सोशल डिस्टेंसिंग अनिवार्य होगा। इस बार घी तेल के 25000 तक मनोकामना दीप प्रज्वलित करने का लक्ष्य रखा गया है। रसीद कटनी शुरू हो गई है। जस गीत भंडारा, नवरात्रि मेला, मातृ सेवाओं को दर्शन के लिए उचित पूजा आदि कार्यक्रम स्थगित रहेंगे।

मां महामाया, अम्बिकापुर

दोस्तो अम्बिकापुर के मां महामाया मंदिर में अम्बिकापुर के कलेक्टर संजीव कुमार झा के अनुसार सरगुजा में 150 लोगों के एकत्रित होने की फिलहाल छूट है। नवरात्रि में महामाया मंदिर में प्रवेश को लेकर फिलहाल अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है।

चंद्रहासिनी मंदिर, जांजगीर

दोस्तों जांजगीर जिले के मां चन्द्रहासिनी देवी में श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए शासन की ओर से कोई स्पष्ट गाइडलाइन नहीं आई है। ट्रस्ट के लोगों का कहना है कि कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए अभी देवी का दर्शन कराया जा रहा है शासन के निर्देशानुसार श्रद्धालुओं को दर्शन के लिए उचित इंतजाम किया गया है ।

दोस्तो अगर आप को यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to give you information about the new guideline of the temples of Chhattisgarh, if you like this information then do comment and share.

Mata’s darshan will be held in Ratanpur, Dogargarh amidst strict guide lines

Friends, Shardiya Navratri is going to start from October 7, in which a guideline has been made for the temples.

Friends, during the Corona period, on October 7 this year, during the Shardiya Navratri, the doors of the temples of Mata will open for the devotees and will remain closed at some places. On 7 October, devotees will be able to visit Jagat Janani by following strict guidelines at Bamleshwari temple. So the doors of the temple in Maa Danteshwari of Bastar will remain closed. Let us tell you that since the first wave of Corona, the doors of the temple were closed for the devotees.

Maa Danteshwari Temple Dantewada

Friends, this year also the doors of Maa Danteshwari temple will remain closed for the devotees. The Dantewada district administration and the temple committee have taken this decision in view of the possibility of a third wave of corona. This will be the fourth Navratri in two years that devotees will not be able to go to the temple to see the adorable goddess. Earlier, the doors of the temple were also closed in two Chaitra and one Shardiya Navratri. The temple committee said that this year only 4100 Jyotas will be lit. Whereas every year their number is more than 12 thousand.

Chandi Devi, Khallari Mateshwari Temple

Friends, the district administration has not yet issued any guideline for Chandi Devi and Khallari Mateshwari temple located in Ghunchapali of Mahasamund district for darshan in Navratri. Collector Doman Singh said that the guidelines will be issued in a day or two. Nandkishore Chandrakar, president of Maa Chandi Mandir Committee Ghunchapali, said that no instructions have been received from the government. If any guideline is issued, then it will be followed.On the other hand, Vinod Kumar Trivedi, president of Khallari Mateshwari Temple Trust, said that this time preparations are on to celebrate Navratri festival in a grand manner. Whatever orders issued by the administration will be followed.

Maa Bamleshwari Devi, Dongargarh

Friends, the doors of the temple of Maa Bamleshwari of Dongargarh, which were closed for the common devotees since the last three Navratri, will open with some restrictions this time for the darshan of Maa Bamleshwari Devi located in Dongargarh. Devotees will have to register in the app before having darshan. Along with this, the RT-PCR test report of 72 hours before and the certificate of both the doses of the vaccine will be necessary. An app has been prepared for this. This year Navratri is starting from Thursday, October 7.

Maa Mahamaya Temple, Ratanpur

Friends, Siddhapeeth Maa Mahamaya Temple located in Ratanpur will be open for the general visitors during Navratri from 7:00 am to 10:00 pm. The offerings and offerings of the temple will be offered outside the temple, the visitors will follow the Kovid guideline completely. Wearing of mask, social distancing will be mandatory. This time a target has been set to light 25000 ghee-oil lamps. Receipt has been started. Programs like Jas Geet Bhandara, Navratri fair, proper worship to visit mother’s services etc. will be postponed.

Maa Mahamaya, Ambikapur

Friends, according to Ambikapur Collector Sanjeev Kumar Jha in the Maa Mahamaya temple of Ambikapur, there is currently an exemption for the gathering of 150 people in Surguja. At present, the final decision has not been taken regarding the entry of Mahamaya temple in Navratri.

Chandrahasini Temple, Janjgir

Friends, no clear guideline has come from the government for the darshan of devotees in Maa Chandrahasini Devi of Janjgir district. The people of the trust say that following the Corona guidelines, the Goddess is being visited right now, as per the instructions of the government, proper arrangements have been made for the devotees to visit.

Friends, if you like this information, then do comment and share.

jai johar jai Chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!