देवउठनी एकादशी पर्व क्यों मनाया जाता है lDevuthani Ekadashi festival 2021l tulsi vivah 2021

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मै आपको देवउठनी एकादशी पर्व के बारे में जानकारी देने वाला हूं यह जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट और शेयर जरूर करे

देवउठनी एकादशी पर्व ( तुलसी विवाह )

देवउठनी पर्व क्यों मानते है – दोस्तों यह पर्व भारत के कई राज्यों में भक्त इस देवउठनी पर्व को मनाते है इसी के दिन भगवान शालिग्राम और पवित्र तुलसी के पौधे का विवाह किया जाता हैं.माना जाता है कि भगवान विष्णु शयनी एकादशी को सोते हैं और देवउठनी एकादशी पर्व के दिन जागते हैं. इस प्रकार इस पर्व को देवउठनी और तुलसी विवाह के नाम से जाना जाता हैl

देवउठनी के अन्य नाम – दोस्तों देवउठनी एकादशी को देव प्रभोदिनी एकादशी, देवउठनी ग्यारसवी एकादशी, देवोत्थान एकादशी के नाम से भी जाना जाता हैl

देव उठानी एकादशी का शुभ मुहूर्त –

देवउठानी एकादशी तिथि 14 नवंबर 2021 – सुबह 05:48 बजे से शुरू होगी और 15 नवंबर 2021 सुबह 06:39 बजे खत्‍म होगी l

तुलसी पूजा और भगवान विष्णु की पूजा – दोस्तों इसी दिन भगवान शालीग्राम के साथ मां तुलसी का आध्यात्मिक विवाह भी होता है. भक्त इस दिन अपने घरों और मंदिरों में तुलसी विवाह करते हैं.। देवउठानी के दिन तुलसी माता की पूजा का विशेष महत्व होता है.। और कहा जाता है की इस दिन विष्णु भगवान की पूजा का विशेष महत्व होता है इस दिन कोई पूजा पाठ ना करके सिर्फ केवल “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः “मंत्र का जाप करने से भी लाभ मिलता है।

गन्ने का विशेष महत्व – दोस्तों इस दिन तुलसी विवाह के दिन अपने अपने घरों में चावल के आटे का चौक बनाकर उस पर गन्ने से पूजा की जाती है. कहते हैं जिस घर में ये पूजा होती है उस पर भगवान विष्णु की कृपा हमेशा बनी रहती हैं।

दोस्तो अगर आप को यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to give you information about Dev Uthni Ekadashi festival, if you like this information then do comment and share.

Devuthani Ekadashi festival (Tulsi Vivah)

Why Dev Uthni festival is celebrated – Friends, in many states of India, devotees celebrate this Dev Uthni festival, on this day Lord Shaligram and holy basil plant are married. It is believed that Lord Vishnu sleeps on Shayani Ekadashi and Dev Uthni Waking up on the day of Ekadashi festival. Thus this festival is known as Dev Uthni and Tulsi Vivah.

Other names of Devuthani – Friends Devuthani Ekadashi is also known as Dev Prabhodini Ekadashi, Devuthani Gyarasavi Ekadashi, Devotthan Ekadashi.

Auspicious time of Dev Uthani Ekadashi –

Dev Uthani Ekadashi Tithi will start from 14th November 2021 – 05:48 am and end on 15th November 2021 at 06:39 am.

Tulsi Puja and Lord Vishnu Worship – Friends, on this day there is also a spiritual marriage of Mother Tulsi with Lord Shaligram. Devotees perform Tulsi Vivah in their homes and temples on this day. Worship of Tulsi Mata has special significance on the day of Dev Uthani. And it is said that the worship of Lord Vishnu has special significance on this day, by not reciting any worship on this day, only by chanting the mantra “Om Namo Bhagwate Vasudevaya Namah”.

Special importance of sugarcane – Friends, on the day of Tulsi Vivah, a square of rice flour is made in their homes and worshiped with sugarcane. It is said that the blessings of Lord Vishnu always remain on the house where this worship is done.

Friends, if you like this information, then do comment and share.

jai johar jai Chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!