गुरु घासीदास बाबा का जीवन परिचय l Biography of guru ghasidas Baba

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट में मै आपको गुरु घासीदास बाबा जीवन के बारे में जानकारी देने वाला हूं यह जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट और शेयर जरूर करे

गुरु घासीदास बाबा का जीवन परिचय

जन्मस्थान – दोस्तों गुरु घासीदास बाबा का जन्म छत्तीसगढ़ के बलौदाबाजार तहसील के गिरौदपुरी नामक ग्राम में 18 दिसंबर 1756 को एक गरीब परिवार हुआ था।

माता और पिता का नाम – दोस्तों गुरु घासीदास बाबा के माता का नाम अमरौतिन और पिता का नाम मंहगू दास था।

पत्नी और बच्चों का नाम – दोस्तों घासीदास बाबा के पत्नी का नाम सफुरा और उनके बच्चों के नाम, सहोद्रा ,बालकदास, अमरदास।

बाबा गुरू घासीदास की शिक्षा – दोस्तों बाबा घासीदास जी ने ज्ञान की प्राप्ति के लिए छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिला के सारंगढ़ तहसील में बिलासपुर रोड में स्थित एक पेड़ के नीचे तपस्या करते हुए उन्हें ज्ञान प्राप्त हुआ था दोस्तों माना जाता है इस जगह पर आज के समय में गुरु घासीदास पुष्प वाटिका की स्थापना की गयी है।

सतनाम का प्रचार प्रसार – दोस्तों बाबा गुरू घासीदास ने सत्य से साक्षात्कार करना ही जीवन का परम लक्ष्य था। उन्होंने सत्य के प्रतीक के रूप में ‘जैतखाम’ को दर्शाया, है यह जैतखाम एक सफ़ेद रंग का वस्त्र होता है जिसे एक लकड़ी के ऊपर लगाया जाता है और एक चबूतरे का निर्माण किया जाता वह चबूतरा भी सफ़ेद रंग का होता है जिस पर उस लकड़ी को चबूतरे के बीच में रखा जाता है जिसे सत्य का प्रतीक चिन्ह जैतखाम के रूप में माना जाता है। घासीदास बाबा ने सतनाम धर्म का प्रचार प्रसार किया और सत्य के मार्ग में चलने की प्रेरणा दी और समाज को व्यक्तियों को एक साथ मिल जुलकर और भाई चारे का संदेश दिया। दोस्तों समाज में छुआछूत, भेदभाव, ऊंचनीच, झूठ और कपट को समाप्त करने के लिए गुरु घासीदास जी ने बहुत संघर्ष किया और समाज की कुरीतियों को दूर किया। जिसका असर समाज के व्यक्तियों पर पड़ा जिससे हजारों लाखों लोग बाबा के अनुयायी हो गए। जिससे धीरे धीरे सतनाम धर्म का प्रचार और प्रसार हुआ।

पंथी नृत्य – दोस्तों पंथी नृत्य बाबा गुरु घासीदास जी के 18 दिसंबर के दिन पंथी नृत्य का आयोजन होता है यह पंथी नृत्य छत्तीसगढ़ के मशहूर नृत्य में से एक है, इस नृत्य में एक सफेद धोती और कमर में कमरबंद और पैर में घुंघरू पहने होते है मंदार और झांझ की लय मे झूम उठते है और सभी लोग समूह में रहकर नृत्य करते है यह नृत्य गुरु घासीदासदास बाबा को समर्पित रहता है।

गुरुघासीदास बाबा के कुछ महत्वपूर्ण संदेश

(1) सतनाम् पर विश्वास रखना।

(2) जीव की हत्या नहीं करना ।

(3) मांसाहार नहीं करना ।

(4) चोरी और जुआ से दूर रहना ।

(5) नशा का सेवन नहीं करना ।

(6) जाति-धर्म के प्रपंच में नहीं पड़ना

(7) व्यभिचार नहीं करना ।

गिरौदपुरी बाबा जी जन्मस्थली – दोस्तों गिरौदपुरी में बाबा जी की जन्मस्थली एवम् कर्मभूमि है। यहां बाबा जी ने गिरौदपुर के छाता पहाड़ में तपस्या की थी, यही से ही उन्हे ज्ञान की प्राप्ति हुई, गिरौदपुरी में कुतुबमीनार से भी ऊंचा जैतखाम का निर्माण किया गया है जो सतनाम धर्म के लिए एक तीर्थ स्थल से कम नहीं है। यहां पर अमृत कुंड और चरण कुंड भी मौजूद है।

हमने यूट्यूब में गिरौदपुरी धाम का विडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को सब्सक्राइब जरूर करें

youtube channel- Dk 808

दोस्तो अगर आप को यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to give you information about Guru Ghasidas Baba Jeevan, if you like this information then do comment and share.

Biography of Guru Ghasidas Baba

Birthplace – Friends, Guru Ghasidas Baba was born in a poor family on 18 December 1756 in a village named Giroudpuri in Balodabazar tehsil of Chhattisgarh.

Mother and Father’s Name – Friends, Guru Ghasidas Baba’s mother’s name was Amarautin and father’s name was Mahgu Das.

Wife and children’s name – Friends Ghasidas Baba’s wife’s name is Safoora and the names of his children, Sahodra, Balakdas, Amardas.

Education of Baba Guru Ghasidas – Friends, Baba Ghasidas ji had attained knowledge while doing penance under a tree located in Bilaspur Road in Sarangarh tehsil of Raigarh district of Chhattisgarh, friends are believed to be at this place today. Guru Ghasidas Pushpa Vatika has been established in.

Propagation of Satnam – Friends, Baba Guru Ghasidas said that the ultimate goal of life was to interview the truth. He depicted ‘Jaitkham’ as a symbol of truth, that is, it is a white colored cloth which is put on a wood and a platform is made, that platform is also of white color on which that wood It is placed in the middle of the platform which is considered as Jaitkham, a symbol of truth. Ghasidas Baba spread the propagation of Satnam Dharma And inspired to walk in the path of truth and gave the message of brotherhood and brotherhood to the people of the society. Friends, Guru Ghasidas ji struggled a lot to end untouchability, discrimination, hiccups, lies and deceit in the society and removed the evils of the society. Which had an effect on the people of the society, due to which thousands of millions of people became followers of Baba. Due to which gradually the spread and spread of Satnam religion took place.

Panthi Dance – Friends Panthi Dance Panthi dance is organized on 18th December of Baba Guru Ghasidas Ji. This Panthi dance is one of the famous dance of Chhattisgarh, in this dance a white dhoti and waistband in waist and Ghungroo is worn in the leg. Mandars and cymbals dance to the rhythm and everyone dances in groups, this dance is dedicated to Guru Ghasidas Das Baba.

Some Important Messages of Guru Ghasidas Baba

(1) Have faith in Satnam.

(2) Not to kill a living being.

(3) Not to eat meat.

(4) To abstain from stealing and gambling.

(5) Do not consume intoxicants.

(6) Do not fall into the trap of caste-religion.

(7) Not to commit adultery.

Giroudpuri Baba Ji Birthplace – Friends, Giroudpuri is the birthplace and Karmabhoomi of Baba Ji. Here Baba ji did penance in the umbrella mountain of Giroudpur, this is where he attained knowledge, Jaitkham has been built higher than Qutub Minar in Giroudpuri which is not less than a pilgrimage site for Satnam religion. Amrit Kund and Charan Kund are also present here.

youtube channel- Dk 808

Friends, if you like this information, then do comment and share.

jai johar jai Chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!