छाता पहाड़ बाबा जी की तपस्थली l chhata pahad girodhpuri chhattisgarh l chhata pahad

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम है। हितेश कुमार इस पोस्ट मे मै आपको छाता पहाड़ के बारे मे जानकारी देने वाला हूं। यह जानकारी अच्छा लगे तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।

छाता पहाड़ गिरौदपूरी, छत्तीसगढ़

पता – दोस्तों यह छत्तीसगढ़ के बलौदा बाजार जिले के गिरौदपूरी ग्राम में दार्शनिक स्थल में से एक है छाता पहाड़ ।

दूरी – दोस्तों रायपुर से लगभग 145 किलोमीटर व बलौदाबाजार से लगभग 40 किमी और बिलासपुर से लगभग 80 किलोमीटर की दूरी पर दार्शनिक स्थल छाता पहाड़ स्थित है।

तपस्‍थली – दोस्तों मानवता के पुजारी संत गुरु घासीदास जी का जन्म गिरौदपुरी में 18 दिसंबर सन 1756 को हुआ था l युवा अवस्था में उन्होंने इसी गांव से लगभग 6 किलोमीटर की दूरी पर घने जंगलों से परिपूर्ण छाता-पहाड़ के नाम से प्रसिद्ध पर्वत व औरधारा वृक्ष के नीचे आध्यात्मिक ज्ञान की प्राप्ति के लिए लंबे समय तक कठोर तपस्या की है जो अभी भी वहां है। इसलिए इस जगह को बाबा जी की तपोस्‍थली के नाम से भी जाना जाता है कहा जाता हैं संत गुरु घासीदास बाबा गिरौदपुरी पहुंचकर लोगों को सत्य, अहिंसा, दया, करुणा और परोपकार के उपदेशों के साथ मानवता का भी संदेश दिया था ।

आस्था का केंद्र – दोस्तों छाता पहाड़ पर्यटकों के लिए आस्था का केंद्र रहा है यहां हजारों की संख्या में लोग इस छाता पहाड़ को देखने के लिए आते है तथा पर्यटक इस जगह को करीब से जानने की कोशिश करते है। दोस्तो पावन पर्व में गिरौदपुरी में गुरुघासीदास बाबा की जयंती बड़े धूमधाम के साथ मनाया जाता हैं दोस्तों यहां हर साल फागुन पंचमी से तीन दिन का भव्य मेला लगता है l गिरौदपुरी सतनामी समाज के लोगों का सबसे बड़ा धार्मिक स्थल है।

हमने यूट्यूब में गिरौदपुरी धाम का विडियो बनाया जाता है जिसे देखे और चैनल को सब्सक्राइब जरूर करे

youtube channel – dk 808

दोस्तो अगर आप को यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

और पढ़े :-

गुरुघासीदास बाबा की जन्मस्थली गिरौधपुरी

कुतुब मीनार से भी ऊंचा गिरौदपुरी का जैतखाम

Hello friends my name is Hitesh Kumar In this post, I am going to give you information about the umbrella mountain. If you like this information, then do comment and share.

Umbrella Pahar Giroudpuri, Chhattisgarh

Address – Friends, this is one of the philosophical places in Giroudpuri village of Baloda Bazar district of Chhattisgarh, Umbrella mountain.

Distance – Friends, about 145 km from Raipur and about 40 km from Balodabazar and about 80 km from Bilaspur, the philosophical place Chhattraphaar is situated.

Tapasthali – Friends, Sant Guru Ghasidas ji, the priest of humanity, was born in Giroudpuri on 18 December 1756. In his youth, at a distance of about 6 kilometers from this village, the famous mountain and Aurdhara tree, full of dense forests, filled with dense forests. For the attainment of spiritual enlightenment, he has done rigorous penance for a long time which is still there.Therefore, this place is also known as Baba Ji’s Taposthali. It is said that Saint Guru Ghasidas Baba reached Giroudpuri and gave the message of humanity along with the teachings of truth, non-violence, kindness, compassion and benevolence to the people.

Center of Faith – Friends, the umbrella mountain has been the center of faith for tourists, here thousands of people come to see this umbrella mountain and tourists try to know this place closely. Friends, in the holy festival, the birth anniversary of Guru Ghasidas Baba is celebrated with great fanfare in Giroudpuri. Friends, every year a grand fair of three days is organized from Phagun Panchami. Giroudpuri is the biggest religious place of the people of Satnami society.

We have made a video of Giroudpuri Dham in YouTube, which must be seen and subscribed to the channel.

youtube channel – Dk 808

Friends, if you like this information, then do comment and share.

jai johar jai Chhattisgarh

Read more :-

Giroudhpuri, the birth place of Guru Ghasidas Baba

Jaitkham of Giroudpuri higher than Qutub Minar

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!