नाग देव मंदिर नगपुरा, दुर्ग l nag dev Temple Nagpura durg chhattisgarh

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट मे मै आप को प्राचीन नाग देव मंदिर के बारे मे जानकारी देने वाला हूं। जिसे जैन धर्म के लोग पार्श्वनाथ के नाम से जानते है। यह पोस्ट अच्छा लगे तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।

नाग देव मंदिर नगपुरा, दुर्ग (छत्तीसगढ़)

दूरी –दोस्तो नाग देव मंदिर छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले से 16 की.मी. दूर नगपुरा ग्राम मे स्थित है।

मंदिर – दोस्तो दुर्ग जिले के नगपुरा मे एक मंदिर है।जिसमे प्राचीन मंदिर के अवशेष रखे गये है।मंदिर छोटा सा है, मंदिरो के दीवारो मे नाग ऊकेरा गया है और बीच मे पीपल का पेड़ है जिसमे सभी मूर्तियों को टीकाकर रखा गया है।

मूर्ति – दोस्तो मंदिर के गर्भ गृह मे नाग देव के आदित्य मूर्ति के दर्शन होते है। मूर्ति खंडित अवस्था मे है। मूर्ति मे एक व्यक्ति ध्यान मुद्रा मे बैठ हुआ है। जिसके सिर मे 7 फन वाला नाग विराजमान है। इन मूर्तियों को पत्थर को तरास्कर बनाया गया है। इसके अलावा मंदिर परिसर मे और भी खंडित मूर्ति देखने को मिलता है।

जैन धर्म के 23 वे तीर्थकर – दोस्तो जैसे की इस मूर्ति को गॉव के लोग नाग देवता के रूप मे पूजते आये है। लेकिन यह जो मूर्ति है। ओ जैन धर्म के 23 वे तीर्थकर पार्श्वनाथ जी का मूर्ति है। जिसके ऊपर जैन धर्म के लोगो का काफी आस्था है।

मान्यता – दोस्तो इस मूर्ति पर गॉव के लोगों का काफी आस्था है। मूर्ति सदियों से यहाँ विराजमान है। गॉव मे जब किसी भी तरह का शुभ कार्य होता हैं तो पहला भेट भगवान नाग देव को चढ़ाते है। जैसे किसी के यहाँ शादी होने पर पहला हल्दी नाग देव को लगाया जाता है।

पुरातत्व विभाग – दोस्तो यह जो नाग देव मंदिर है वो पुरातत्व विभाग के देख रेख मे है। जिसका समय समय मे पुरातत्व विभाग द्वारा निरीक्षण किया जाता है। पुरातत्व विभाग द्वारा बोर्ड लगवाकर मंदिर के इतिहास को लोगो तक पहुचाया जा रहा है। संरक्षित स्मारक को छती पहुँचाने पर सजा और आर्थिक दंड का प्रावधान होता है।

हमने यूट्यूब में नाग देव मंदिर का विडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को सब्सक्राइब जरूर करे

youtube channel- Hitesh Kumar hk

दोस्तो अगर आप को यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to inform you about the ancient Nag Dev temple. Which people of Jainism know as Parshvanath. If you like this post then do comment and share.

Nag Dev Temple Nagpura, Durg (Chhattisgarh)

Distance – Friends Nag Dev Temple is 16 kms from Durg district of Chhattisgarh. It is located in distant Nagapura village.

Temple – Friends, there is a temple in Nagapura of Durg district. In which the remains of the ancient temple have been kept. The temple is small, the snake has been carved in the walls of the temples and there is a Peepal tree in the middle, in which all the idols have been kept inscribed.

Idol – Friends, in the sanctum sanctorum of the temple, there is a vision of the Aditya idol of Nag Dev. The idol is in a broken state. In the idol, a person is sitting in a meditative posture. In whose head there is a snake with 7 hoods. These idols have been carved out of stone. Apart from this, more fragmentary idols can be seen in the temple premises.

The 23rd Tirthankar of Jainism – Friends, as the people of the village have been worshiping this idol in the form of a snake deity. But this is an idol. It is the idol of Parshvanath ji, the 23rd Tirthankar of Jainism. On which the people of Jainism have a lot of faith.

Recognition – Friends, the people of the village have a lot of faith on this idol. The idol has been sitting here for centuries. When any kind of auspicious work is done in the village, then the first offering is offered to Lord Nag Dev. Like when someone gets married here, the first turmeric is applied to Nag Dev.

Archeology Department – Friends, this Nag Dev temple is under the supervision of the Archaeological Department. Which is inspected from time to time by the Archaeological Department. The history of the temple is being made accessible to the people by getting a board installed by the Archaeological Department. There is a provision of punishment and monetary penalty for reaching the protected monument.

We have made a video of nag dev temple in youtube, watch it and subscribe to the channel.

youtube channel- Hitesh Kumar hk

Friends, if you like this information, then do comment and share.

Jai johar jai Chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!