प्राचीन शिवलिंग, बारसूर (दंतेवाड़ा) l Ancient Shivling Barsur Dantewada l shiv temple

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे

हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट मे मै आपको प्राचीन शिवलिंग के बारे मे जानकारी देने वाला हूं। यह जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट और शेयर जरूर करें

प्राचीन शिवलिंग, बारसूर (दंतेवाड़ा)

स्थान – दोस्तो छत्तीसगढ़ के बारसूर (दंतेवाड़ा) के पेदम्मा गुड़ी और 16 खंभा मंदिर एवं सूर्य मंदिर है ।

प्राचीन शिवलिंग की प्राप्ति – दोस्तो प्राचीन धरोहरों को संरक्षित करने के दौरान 16 खंभा मंदिर के तल के नीचे प्राचीन कालीन शिवलिंग की प्राप्ति हुई है।

ग्रामीणों मे उल्लास का माहौल – दोस्तो शिवलिंग की प्राप्ति से ग्रामीण काफी खुश हुए ग्रामीणों ने हर हर महादेव का जयकारा लगा कर मिट्टी और पत्थरों में दबे शिवलिंग की साफ सफाई कर पूजा अर्चना की और प्राचीन कालीन शिवलिंग के दर्शन किए।

समृद्ध नगर – यह एक और प्रमाण है कि छत्तीसगढ़ की प्राचीन नगर बारसूर 9वी सदी में कितना समृद्ध रहा होगा। किसी समय बारसूर में शिव मंदिरों की भरमार थी। आज भी इसके आसपास कई प्राचीन मंदिरों की अवशेष है यह स्थल रामायणकालीन भी है। यहां का बत्तीसा मंदिर और चन्द्रादित्य मंदिर भी शिव मंदिर ही है। जिनके दर्शन करने लोग दंतेवाड़ा से होते हुए इस जंगल के बीच बसे प्राचीन राजधानी में आते है। यह प्राचीन कालीन बारसूर और छिंदक नागवंशी राजाओं का क्षेत्र रहा है। यहां के विशाल गणेश जी की जुड़वा मूर्तिया भी विख्यात है। वर्तमान प्राप्त शिवलिंग हेतु बत्तिसा मंदिर की तरह ही एक मंदिर का निर्माण ग्रामीणों ने कि है।

प्राचीन मूर्तियों का संग्रहालय – दोस्तो बारसूर के पुरातत्व संग्रहालय में भी कई शिवलिंग और प्राचीन मूर्तियां संरक्षित की गई है। इस शिवलिंग के साथ ही माता लक्ष्मी और महिषासुर मर्दनी की भी मूर्ति प्राप्त हुई है। वर्तमान में प्राप्त शिवलिंग और अन्य मूर्तियों पर शोध जारी है।

दोस्तो अगर आपको यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे। हमसे जुड़ने के लिए instrgam में follow जरूर करे

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to give you information about ancient Shivling. If you like this information then please comment and share

Ancient Shivling, Barsur (Dantewada)

Location – Friends, there is Pedamma Gudi and 16 pillar temple and Sun temple of Barsur (Dantewada) of Chhattisgarh.

Receipt of ancient Shivling – Friends, while preserving the ancient heritage, ancient Shivling has been found under the floor of the 16 pillar temple.

The atmosphere of joy among the villagers – Friends, the villagers were very happy with the receipt of Shivling, the villagers chanted Har Har Mahadev, cleaned the Shivling buried in the soil and stones and worshiped and visited the ancient Shivling.

Prosperous city – This is another proof of how prosperous the ancient city of Chhattisgarh Barsur must have been in the 9th century. Once upon a time Barsur was full of Shiva temples. Even today, there are ruins of many ancient temples around it, this place is also of Ramayana period. The Battisa temple and Chandraditya temple here are also Shiva temples. People who visit Dantewada come to the ancient capital situated in the middle of this forest. It has been the area of ​​ancient times Barsur and Chhindak Nagvanshi kings. The twin idols of huge Ganesh ji here are also famous. The villagers have built a temple like the Battisa temple for the present Shivalinga.

Museum of Ancient Sculptures – Friends, many Shivling and ancient sculptures have also been preserved in the Archaeological Museum of Barsur. Along with this Shivling, idols of Mata Lakshmi and Mahishasur Mardini have also been found. Research is going on on the Shivalinga and other idols found at present.

Friends, if you like this information, then do comment and share. Follow us on instrgam to join us.

Jai johar jai Chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!