भित्ति कला की जादूगर सोनाबाई रजवार lSonabai Rajwar, the magician of mural art

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार इस पोस्ट मे आपको भित्ति कला की जादूगर सोना बाई के बारे मे जानकारी देने वाला हु। यह पोस्ट अच्छा लगे तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।

भित्ति कला की जादूगर सोनाबाई रजवार

सोना बाई – दोस्तो सोना बाई छत्तीसगढ़ के साथ साथ पूरे देश विदेश मे भित्ति कला के लिए जाने जाती है। सोना बाई को भित्ति कला की जन्म दाता माना जाता है। सोना बाई बचपन से मिट्टी के खेल खिलौने बनाते बनाते इतना पारंगत हो गई थी की एक नई कला की रचना कर दी जिसे भित्ति कला बोला जाता है।सोना बाई अपनी कला मे इतना निपुरण थी की बिना किसी साचे के सुंदर सुंदर डिजाइन सहजता से बना देती थी।

भित्ति कला क्या है – दोस्तो हम लोग भित्ति कला के बारे मे बात कर रहे है। लेकिन बहुत सारे लोगो को पता भी नही होगा की भित्ति कला किसको बोला जाता है। दोस्तो भित्ति कला मिट्टी के दीवारो मे मिट्टी की मदद से बनाया जाता है। मिट्टी की घरों को सजाने और आकर्षक बनाने के लिए भित्ति कला एक अद्भुत कला का नमुना है।

गांव – सोना बाई छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले के पुहपुटरा गांव की रहने वाली थी।

भित्ति कला का शूरुवात कैसे हुआ – सोनाबाई के बेटे दरोगा राम बताते हैं कि गणेशपुर गांव में जन्मी सोनाबाई का विवाह पुहपुटरा में सिर्फ 15 साल की उम्र में हो गया था। पिता सुबह से ही खेत पर चले जाते थे, मैं भी स्कूल चला जाता था। मां घर पर अकेली रह जाती थीं। नया घर बनाया था इसलिए अकेलेपन में उसे ही सजाना शुरू कर दिया।घर की लिपाई पोताई के साथ साथ नये कला का अंकुरण होना भी शुरू हो गया था पर सोना बाई को उसका तनिक भी अहसास नही था की यह कला उन्हे देश विदेश मे पहचान दिलाएगा।

पुरुस्कार – दोस्तो सोना बाई को उनको इस कला के लिए बहुत सारे पुरुस्कार मिला है।

1, तुलसी सम्मान(1986) – मध्यप्रदेश सरकार द्वारा।
2, शिल्प गुरु सम्मान(2002) – राष्ट्रपति अब्दुल कलम द्वारा।।
3, राज्य अलंकरण पुरस्कार – छत्तीसगढ़ शासन द्वारा।
4,एक अंग्रेजी लेखक डाॅ. स्टीफेन ह्यूलर ने एक बुक भी लिखी है, जिसका नाम सोना बाई अनादर वे ऑफ सीइंग है।

सोना बाई का निधन – दोस्तो छत्तीसगढ़ की इस बेटी जिसका समर्पण मिट्टी की इस अद्भुत कला भित्ति कला मे था।जिनका निधन 2007 मे हुआ।

दोस्तो अगर आपको यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे। हमसे जुड़ने के लिए youtube, instrgam fecbook को follow जरूर करे

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to inform you about Sona Bai, the magician of mural art. If you like this post then do comment and share.

Sonabai Rajwar, the magician of mural art

Sona Bai – Friends Sona Bai is known for mural art in Chhattisgarh as well as all over the country and abroad. Sona Bai is considered to be the birth giver of mural art. Sona Bai had become so proficient in making clay play toys since childhood that she created a new art which is called mural art. Was.

What is mural art – Friends, we are talking about mural art. But many people will not even know what is called mural art. Friends, mural art is made in clay walls with the help of clay. Mural art is a wonderful art piece to decorate and make attractive clay homes.

Village – Sona Bai was a resident of Puhputra village of Surguja district of Chhattisgarh.

How Mural Art Started – Sonabai’s son Daroga Ram tells that Sonabai, born in Ganeshpur village, was married at the age of 15 in Puhaputra. Father used to go to the farm since morning, I also used to go to school. Mother was left alone at home. He had built a new house, so he started decorating it in loneliness. Along with the painting of the house, the sprouting of new art had also started, but Sona Bai did not even realize that this art would give her recognition in the country and abroad.

Awards – Friends, Sona Bai has received many awards for this art.

1, Tulsi Samman(1986) – by the Government of Madhya Pradesh.

2, Shilp Guru Samman (2002) – by President Abdul Kalam.

3, State decoration award – by the Government of Chhattisgarh.

4, An English writer Dr. Stephen Heuler has also written a book called Sona by Disrespectful Way of Seeing.

Death of Sona Bai – Friends, this daughter of Chhattisgarh whose dedication was in this wonderful art of clay mural art. Who died in 2007.

Friends, if you like this information, then do comment and share. To join us please follow youtube, instrgam fecbook.

jai johar jai Chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!