छत्तीसगढ़ की रंगीन गोभियो को देख हो जाएंगे हैरान lColorful Cabbage of Chhattisgarh

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम हैं हितेश कुमार इस पोस्ट मे आपको छत्तीसगढ़ की रंगीन गोभियों के बारे मे जानकारी देने वाला हूं। यह जानकारी अच्छा लगे तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे

छत्तीसगढ़ की रंगीन गोभियां

कहा पर है यह रंगीन गोभियां – छत्तीसगढ़ के मल्हार पंचायत के जदुनंदन प्रसाद वर्मा जी के पास, यह रंग बिरंगी सब्जी उगाते है, यह देशी खेती को बढ़वा देते है और किसान भाइयों को ऑर्गेनिक खेती (देशी तरीके से खेती) करने के लिए प्रेरित करते है।

बिलासपुर के एक किसान ने चार रंग के गोभियों का उत्पादन किया है। इसमें सामान्य सफेद गोभी के साथ ही गुलाबी, पीली और हरी गोभी यानी ब्रोकली शामिल है। छत्तीसगढ़ में पहली बार बिसालपुर के एक किसान ने चार रंग के गोभियों का उत्पादन किया है। इसमें सामान्य सफेद गोभी के साथ ही गुलाबी, पीली और हरी गोभी यानी ब्रोकली शामिल है। दावा किया जा रहा है कि इन रंगीन गोभियों में अन्य गोभियों के मुकाबले ज्यादा पोषक तत्व है। किसान जदुनंदन वर्मा अब इसे जल्द बाजार में उतारने की तैयारी कर रहे हैं।

सोशल मीडिया से मार्केट – दोस्तों सोशल मीडिया से मिल जाता है मार्केट बिलासपुर जिले में मल्हार के रहने वाले किसान जदुनंदन वर्मा अपनी एटिक फार्मिंग के कारण इन दिनों क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गए हैं। उनके पास इन गोभियों की मांग सोशल मीडिया से भी आने लगी है। दरअसल, जदुनंदन ने फसल का वीडियो सोशल मीडिया में अपलोड कर देते हैं।

मिलता है ज्यादा दाम जदुनंदन कहते हैं कि परंपरागत खेती करने से मेहनत कम लगती है, लेकिन वह व्यवसायिक नहीं है। छोटे से खेत में नियमित देखभाल करके सब्जी की खेती से अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है। वो अगिनिक खेती पर भी काम करते हैं। पहले वो सफेद गोभी बस को खेती करते थे,

इम्यूनिटी बढ़ाएगी ये फूलगोभी – दोस्तों जदुनंदन वर्मा ने बताया कि कंपनी और कुछ एक्सपर्ट से चर्चा में पता चला कि रंगीन गोभियों में पोषण तत्वों की भरपूर मात्र होती है। इसमें कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम, जिंक जैसे गुण पाए जाते हैं। यह बुजुर्गे और गर्भवती महिलाओं के लिए बेहद लाभकारी है। कुछ विशेषज्ञ इन्हें इम्यूनिटी बढ़ाने में भी असरदायक मानते हैं। इनमें ज्यादा न्यूटिशन होता है।

यहां के इलाके में जिन लोगों को जैविक सब्जियों का महत्व पता है वे उनके खेतों में आकर फसल खरीद लेते हैं। फूड कल्चर में हुए बदलाव की वजह से लोग उबली हुई सब्जियां खाते हैं। इस कारण भी रंगीन गोभियों की डिमांड बनी हुई है। ये गोभिया विदेशी वेरायटी है,

जदुनंदन वर्मा की रुचि – दोस्तों भारत में भी इसका उत्पादन अच्छा हो रहा है। वैज्ञानिक बनने का था सपना जदुनंदन वर्मा ने बताया कि उन्हें बचपन से ही खेती किसानी के नए नए प्रयोगों को करने का शौक । इसी वजह से वह कृषि वैज्ञानिक बनना चाहते थे गरीबी के कारण कम उम्र में ही फावड़ा और कुदाली आ गई। अब उनके हालात सुधर रहे हैं तो उन्होंने बेटे का दाखिला कराया।

लेकिन जब से उन्होंने ये प्रयोग शुरू किया इन गोभियों एग्रीकल्चर युनिवर्सिटी में कराया है तब से इस गोभियों की मांग बढ़ गई है और दाम भी ज्यादा मिल रहे हैं। फूड कल्चर में हुए बदलाव से बढ़ी डिमांड है।

दोस्तों हमने यूट्यूब में यहां का विडियो बनाया है जिसे देखे और चैनल को सब्सक्राइब जरूर करें
Youtube channel – dk 808

दोस्तो अगर आपको यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे। हमसे जुड़ने के लिए youtube, instrgam fecbook को follow जरूर करे

जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to inform you about the colorful cabbages of Chhattisgarh. If you like this information then do comment and share

Colorful Cabbage of Chhattisgarh

Where is this colorful cabbage – near Jadunandan Prasad Verma ji of Malhar Panchayat of Chhattisgarh, it grows colorful vegetables, it promotes indigenous farming and inspires the farmer brothers to do organic farming.

A farmer from Bilaspur has produced four colored cabbages. It includes normal white cabbage as well as pink, yellow and green cabbage i.e. broccoli. For the first time in Chhattisgarh, a farmer from Bisalpur has produced four colored cabbages. It includes normal white cabbage as well as pink, yellow and green cabbage i.e. broccoli. It is being claimed that these colorful cabbages have more nutrients than other cabbages. Farmer Jadunandan Verma is now preparing to launch it in the market soon.

Market from social media – Friends meet with social media Market Jadunandan Verma, a resident of Malhar in Bilaspur district, has become a topic of discussion in the area these days due to his attic farming. The demand for these cabbages has started coming to them from social media as well. Actually, Jadunandan uploads the video of the crop in social media.

Get more price Jadunandan says that doing traditional farming takes less effort, but it is not commercial. By taking regular care in a small farm, good profits can be earned from vegetable cultivation. He also works on abiotic farming. Earlier he used to cultivate white cabbage bus,

This cauliflower will increase immunity – Friends, Jadunandan Verma told that in discussion with the company and some experts, it was found that colored cabbage is rich in nutritional elements. It has properties like calcium, phosphorus, magnesium, zinc. It is very beneficial for the elderly and pregnant women. Some experts also consider them effective in increasing immunity. They contain more nutrition.

In this area, people who know the importance of organic vegetables come to their fields and buy the crop. Due to the change in food culture, people eat boiled vegetables. Due to this also the demand for colored cabbage remains. This cabbage is a foreign variety,

Jadunandan Verma’s interest – Friends, its production is also doing well in India. The dream of becoming a scientist, Jadunandan Verma told that he was fond of doing new experiments of farming since childhood. For this reason, he wanted to become an agricultural scientist, due to poverty, he got the shovel and spade at an early age. Now his condition is improving, so he got his son admitted.

But since they started this experiment, they got these cabbages done in Agriculture University, since then the demand for these cabbages has increased and the prices are also getting higher. There is an increased demand due to the change in food culture.

Friends, we have made a video here in youtube, watch it and subscribe to the channel.

Youtube channel – dk 808

Friends, if you like this information, then do comment and share. To join us please follow youtube, instrgam fecbook.

jai johar jai Chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!