बसंत पंचमी क्यों मनाया जाता है 2022 l Why is Basant Panchami celebrated in 2022?

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम हैं हितेश कुमार इस पोस्ट मे आपको बसंत पंचमी क्यों मनाया जाता है जिसके बारे मे जानकारी देने वाला हूं। यह जानकारी अच्छा लगे तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे

बसंत पंचमी क्यों मनाया जाता है 2022

कब मानते है बसंत पंचमी – दोस्तों बसंत पंचमी का पर्व माघ मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी के दिन मनाया जाता है कहा जाता है की इस दिन मां सरस्वती की पूजा अर्चना करने से ज्ञान की प्राप्ति और मन की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

बसंत पंचमी क्यों मनाते है – दोस्तों कहा जाता है की बसंत पंचमी के दिन विद्या की देवी मां सरस्वती की पूजा अर्चना की जाती है।
इस पूजा को कई राष्ट्रों में धूम धाम के साथ मनाया जाता है।बसंत पंचमी के दिन पीले वस्त्र धारण करना शुभ माना जाता है।

माता के अन्य नाम – दोस्तों माता को शारदा, बागीश्वरी, वीणावादिनी,भगवती और वाग्देवी आदि नामों से भी जाना जाता है। बसंत पंचमी को श्रीपंचमी और सरस्वती पूजा के नाम से भी जानते है ।

मां सरस्वती का जन्म कब हुआ – दोस्तो प्राचीन मान्यता के अनुसार मां सरस्वती का जन्म बसंत पंचमी के दिन ही हुआ है।यह पर्व को स्कूलों, ऑफिसों तथा संगीत और साहित्य की साधना करने वाले साधक भी वसंत को पंचमी को बड़े उत्साह के साथ मनाते हैं। वीणावादिनी, हंस पर विराजमान मां सरस्वती मनुष्य के जीवन में छाई हुई अज्ञानता को दूर करके ज्ञान और बुद्धि का प्रदान कर कल्याण करती है।

मां सरस्वती की प्रतिमा – दोस्तों इस दिन मां सरस्वती की प्रतिमा स्थापित करके कॉपी,पुस्तकें, पेन तथा अन्य सामग्री माता के सामने रखकर मां सरस्वती का विधिवत पूजन करके और नया काम आरंभ करने पर उस कार्य में सफलता जरूर मिलती है।

दोस्तो अगर आपको यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे। हमसे जुड़ने के लिए youtube, instrgam को follow जरूर करे
जय जोहार जय छत्तीसगढ़

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in this post I am going to inform you about why Basant Panchami is celebrated. If you like this information then please comment and share

Why is Basant Panchami celebrated in 2022?

When is Basant Panchami – Friends, the festival of Basant Panchami is celebrated on the fifth day of Shukla Paksha of Magh month, it is said that worshiping Goddess Saraswati on this day leads to attainment of knowledge and fulfills all the desires of the mind.

Why Basant Panchami is celebrated – Friends, it is said that on the day of Basant Panchami, Goddess Saraswati, the goddess of learning, is worshipped.This puja is celebrated with pomp in many nations. Wearing yellow clothes on the day of Basant Panchami is considered auspicious.

Other names of Mata – Friends Mata is also known by other names like Sharda, Bagishwari, Veenavadini, Bhagwati and Vagdevi. Basant Panchami is also known as Sri Panchami and Saraswati Puja.

When was Mother Saraswati born – Friends, according to ancient belief, Mother Saraswati was born on the day of Basant Panchami.This festival is celebrated in schools, offices and even the seekers who practice music and literature celebrate Vasant Panchami with great enthusiasm. Veenavadini, Goddess Saraswati, seated on a swan, removes the ignorance prevailing in the life of human beings and does welfare by providing knowledge and intelligence.

Statue of Maa Saraswati – Friends, on this day, by setting up the statue of Maa Saraswati, placing copies, books, pens and other materials in front of the mother, duly worshiping Maa Saraswati and starting a new work, success is definitely achieved in that work.

Friends, if you like this information, then do comment and share. To join us please follow youtube, instrgam

jai johar jai Chhattisgarh

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!