क्या है ताजमहल के 22 कमरों का रहस्य l history of the taj mahal

नोट – हिंदी और इंग्लिश में जानकारी प्राप्त करे।

हैलो दोस्तो मेरा नाम है हितेश कुमार आज की पोस्ट मे आप को ताजमहल के 22 कमरों के रहस्य के बारे मे जानकारी देने वाला हुँ। यह पोस्ट अच्छा लगे तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।

ताजमहल के 22 कमरों का रहस्य

दोस्तों क्या हुआ जब 370 साल बाद ताजमहल के बंद कमरों के ताले तोड़े गए और अंदर का नजारा देखकर सभी लोगों के होश उड़ गए आखिर क्या है इन 22 कमरों का रहस्य और इतने सालों से इन्हें बंद क्यों रखा गया है भी मांगते हैं कि ताजमहल एक तेजो महालय हैं तो इस पोस्ट को शेयर जरूर करे

दोस्तों ऐसा माना जाता है कि सन 1632 में ताजमहल का निर्माण कार्य शुरू हुआ था जिस का समापन सन 1652 में हुआ परंतु एक दावा यह भी किया जाता है कि सन 1252 में राजा परम आदिदेव ने आगरा में दो भव्य मंदिरों का निर्माण करवाया था जिसमें एक वैष्णव था तो दूसरा शिव मंदिर यह जो शिव मंदिर था उसे राजा आदिदेव ने तैयार करवाया था जिसका नाम तेजो महालय दिया गया था सन 1632 में यही जगह जयपुर के महाराज जयसिंह के कब्जे में थी जिसके बाद शाहजहां ने उस स्थान पर तेजो महालय पर कब्जा करके उसी के अवशेषों से ताजमहल का निर्माण करवाना शुरू किया परंतु कहते हैं ना भगवान के घर देर है अंधेर नहीं इस घटना के ठीक 370 साल बाद जयपुर के परिवार ने कोर्ट में यह याचिका दायर कि।

वे लोग महाराज जय सिंह के वंशज है और जिस स्थान पर ताजमहल बना हुआ है वह उनकी पुश्तैनी धरोहर है उनके पास कुछ ऐसे सबूत भी थे जो ए दावा कहते थे कि सचमुच में वह जमीन जिस पर ताजमहल बना हुआ है वह महाराजा जयसिंह की ही थी अब जब यह खबर बाहर आई कि ताजमहल एक तेजो महालय हैं और इसके अंदर शिवलिंग उपस्थित है तो यह खबर बहुत तेजी के साथ फैलने लगी।

दोस्तों विनय नाम के एक शख्स ने जब इस खबर के बारे में सुना तो वह बहुत ज्यादा उत्साहित हो गया और वह तुरंत जयपुर से आगरा के लिए रवाना हुआ परंतु ताज महल के अंदर घुसने से पूर्व उसका कैमरा बाहर ही रखवा लिया वह ताज महल के अंदर जाना चाहता था क्योंकि उसे लग रहा था कि आज भी वह पौराणिक शिवलिंग यहीं पर मौजूद होगी जिसके बाद जैसे-तैसे पुलिसवालों को चकमा देकर वह ताज महल के अंदर घुस गया और अंदर का नजारा देखकर विनय के होश उड़ गए क्योंकि ताजमहल के दीवारों पर जो नकाशी बनी हुई थी उसमें धतूरे के फूल की आकृति साफ दिखाई दे रही थी जिसमें ओम नजर आ रहा था जब वह थोड़ा और आगे गया तो उसे अंदर एक कुआं दिखाई दिया और यह तर्क दिया जाता है कि कुआं मकबरों में नहीं बल्कि मंदिरों में होता है l

जो वह थोड़ा और आगे गया तो उसने देखा कि वहां एक संगमरमर की जाली थी जिसके ऊपर 108 कलश चित्र थे हिंदू मंदिर परंपरा में भी

108 की संख्या को पवित्र माना जाता है और यह सभी साक्ष्य दावा कर रहे थे कि वह ताजमहल नहीं बल्कि सच में तेजो महालय हैं जब विनय ताजमहल के पिछले भाग में पहुंचा तो उसने देखा कि वहां 22 कमरे बने हुए थे और हर कमरे के दरवाजे पर ताला लगा हुआ था वह समझ चुका था कि ताजमहल का निर्माण एक शिव मंदिर के ऊपर हुआ है और उस मंदिर के जितनी भी अनमोल धरोहर होगी वहीं 22 कमरे के अंदर ही मौजूद होगी जिसके बाद उसने वहीं पर सेट शीला उठाई और पहले कमरे के दरवाजे का ताला तोड़ दिया जो अंदर गया तो वह कमरा काफी विशाल था उसने थोड़ा और ध्यान से देखा तो उसके होश उड़ गए क्योंकि वहां पर बहुत सारे हिंदू धर्म के देवी-देवताओं की मूर्तियां मौजूद थी विनय ने सोचा कि एक कमरे में ही इतनी अनमोल धरोहर मौजूद है तो बारिश कमरे तो अपने अंदर कई रात समेटे हुए होंगे सच जान चुका था परंतु इतने में ही उसे किसी के आने की आहट सुनाई दी तो बहुत ज्यादा डर गया वह उसी समय स्थान से बाहर आकर ताज महल के बाहर आ गया

क्योंकि वह अंदर कोई मोबाइल फोन या कैमरा नहीं ले जा पाया था ऐसे में वह सच्चाई लोगों को बता रहा था तो भी कोई उस पर विश्वास नहीं कर रहा था दोस्तों आप नीचे कमेंट बॉक्स में बताइए क्या जो विनय ने ताजमहल के अंदर देखा एक दम सच है क्या ताजमहल सच में तेजो महालय हैं हमें दवा इसलिए भी सच लग रहा है क्योंकि आज तक किसी भी मुस्लिम इमारत में मैं शब्द का इस्तेमाल नहीं हुआ है और ताज और महल दोनों ही संस्कृत शब्द है खैर सच्चाई एक न एक दिन तो दुनिया के सामने आकर ही रहेगी

दोस्तो अगर आप को यह जानकारी अच्छा लगा तो कॉमेंट और शेयर जरूर करे।
!! धन्यवाद !!

Hello friends, my name is Hitesh Kumar, in today’s post I am going to inform you about the secret of 22 rooms of Taj Mahal. If you like this post then do comment and share.

The Secret of the 22 Rooms of the Taj Mahal

Friends, what happened after 370 years when the locks of the closed rooms of the Taj Mahal were broken and seeing the inside view, everyone’s senses were blown away. If you are Tejo Mahalaya then definitely share this post.

Friends, it is believed that the construction work of Taj Mahal started in 1632, which ended in 1652, but it is also claimed that in the year 1252, King Param Adidev had built two grand temples in Agra, in which one If it was Vaishnav, then the second Shiva temple, this Shiva temple was built by King Adidev, whose name was given to Tejo Mahalaya.

In the year 1632, this place was in the possession of Maharaja Jai ​​Singh of Jaipur, after which Shah Jahan captured Tejo Mahalaya at that place and started building the Taj Mahal from the remains of the same, but it is said that God’s house is late, it is not dark right after this incident. After 370 years, the family of Jaipur filed this petition in the court.

They are the descendants of Maharaj Jai Singh and the place where the Taj Mahal is built is their ancestral heritage. Now when the news came out that Taj Mahal is a Tejo Mahalaya and Shivling is present inside it, this news started spreading very fast.

Friends, when a person named Vinay heard about this news, he became very excited and he immediately left for Agra from Jaipur, but before entering the Taj Mahal, he got his camera kept outside. He was inside the Taj Mahal. wanted to go because he felt that even today that mythical Shivling would be present here, after which he somehow managed to dodge the policemenHe entered the Taj Mahal and seeing the inside view, Vinay’s senses were blown away because in the carving on the walls of the Taj Mahal, the shape of the Dhatura flower was clearly visible in which Om was visible when he went a little further. So he saw a well inside and it is argued that the well was not in the tombs but Rather it happens in temples.

When he went a little further, he saw that there was a marble lattice over which there were 108 urn images. In Hindu temple tradition also the number 108 is considered sacred and all this evidence was claiming that it was not the Taj Mahal but in reality. Tejo is the palace. When Vinay reached the rear of the Taj Mahal, he saw that there were 22 rooms and the door of each room was locked.He had understood that the Taj Mahal was built on top of a Shiva temple and all the precious heritage of that temple would be present inside only 22 rooms, after which he picked up the sheela set there and broke the lock of the door of the first room. When I went inside, that room was quite spacious, she looked a little more carefully.His senses were blown away because there were idols of many gods and goddesses of Hindu religion, Vinay thought that if there is such a precious heritage in one room, then the rain room must have covered many nights inside itself. When he heard the sound of someone’s arrival, he was very much scared, he came out of the place and came out of the Taj Mahal.

Because he could not take any mobile phone or camera inside, in such a situation, he was telling the truth to the people, even then no one was believing him, friends, you tell in the comment box below what Vinay saw inside the Taj Mahal. Is Tajmahal really Tejo Mahalaya, we feel medicine also because till date the word I has not been used in any Muslim building and both Taj and Mahal are Sanskrit words, Well the truth is one day or the other in front of the world. will come.

Friends, if you like this information, then do comment and share.

!! Thank you !!

Hitesh

हितेश कुमार इस साइट के एडिटर है।इस वेबसाईट में आप छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति, मंदिर, जलप्रपात, पर्यटक स्थल, स्मारक, गुफा , जीवनी और अन्य रहस्यमय जगह के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से सुंदर और सहज जानकारी प्राप्त करे। जिससे इस जगह का विकास हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!